लजपाल नबी मेरे दर्दां दी दवा देणा / Lajpaal Nabi Mere Dardaan Di Dawa Dena

लजपाल नबी मेरे दर्दां दी दवा देणा
जदो वक़्ते-नज़अ आवे, दामन दी हवा देणा

मैं नात तेरी पढ़ना, मैं ज़िक्र तेरा करना
इस ज़िक्र दी बरकत नाल मेरी क़ब्र वसा देणा

दिल रोंदा ए जांदे ने जदों लोकी मदीने नूं
हुण सानूं वी या आक़ा ! दरबार विखा देणा

आक़ा तेरी महफ़िल विच झोलियाँ विछा बैठे
लज रख लई ए लजपाला ! ख़ाली न उठा देणा

साइम दी तमन्ना ए, रवे आ के मदीने विच
पांवें तयबा दे कुतियाँ दे पेरां विच बिठा देणा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.