शेहरे-नबी तेरी गलियों का नक़्शा ही कुछ ऐसा है

शेहरे-नबी तेरी गलियों का नक़्शा ही कुछ ऐसा है
ख़ुल्द भी है मुश्ताक़े-ज़ियारत जल्वा ही कुछ ऐसा है

शेहरे-नबी तेरी गलियों का नक़्शा ही कुछ ऐसा है

दिल को सुकूं दे, आँख को ठंडक, रोज़ा ही कुछ ऐसा है
फ़र्शे-ज़मीं पर अर्शे-बरी हो, लगता ही कुछ ऐसा है

ख़ुल्द भी है मुश्ताक़े-ज़ियारत जल्वा ही कुछ ऐसा है

उनके दर पर ऐसा झुका दिल ! उठने का कुछ होश नहीं
अहले-शरीयत हैं सकते में, सजदा ही कुछ ऐसा है

ख़ुल्द भी है मुश्ताक़े-ज़ियारत जल्वा ही कुछ ऐसा है

अर्शे-मुअ़ल्ला सर पे उठाए, ता़हिरे-सिदरा आँख लगाए
पत्थर भी क़िस्मत चमकाएं, तलवा ही कुछ ऐसा है

ख़ुल्द भी है मुश्ताक़े-ज़ियारत जल्वा ही कुछ ऐसा है

सिब्ते-नबी है पुश्ते-नबी पर और सजदे की हालत है
आक़ा ने तस्बीह़ बड़ा दी, बेटा ही कुछ ऐसा है

ख़ुल्द भी है मुश्ताक़े-ज़ियारत जल्वा ही कुछ ऐसा है

ख़म हैं यहाँ जमशेदो-सिकंदर, इस मे क्या हैरानी है
उनके ग़ुलामों का ए अख़्तर ! रुतबा ही कुछ ऐसा है

शेहरे-नबी तेरी गलियों का नक़्शा ही कुछ ऐसा है
ख़ुल्द भी है मुश्ताक़े-ज़ियारत जल्वा ही कुछ ऐसा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.