ज़ुल्मतों को मिटाने नबी आ गए

ज़ुल्मतों को मिटाने नबी आ गए
सब को ख़ुशियाँ दिलाने नबी आ गए

ज़िंदा दरगोर होंगी न अब बेटियाँ
बेटियों को बचाने नबी आ गए

बेकसों ने कहा दूर हो ज़ालिमों
हम को सीने लगाने नबी आ गए

ग़म के मारे मचल कर ये कहने लगे
हम को दिल से लगाने नबी आ गए

ए ग़रीबो ! फ़क़ीरो ! करो अब न ग़म
ले के सारे ख़ज़ाने नबी आ गए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.