Ilahi Gunahgar Banda Hun Main Dua Lyrics

 

Ilahi Karam, Ilahi Karam

Ilahi Karam, Ilahi Karam

 

Ilahi Gunahgar Banda Hun Main

Sarapa Bura Aur Ganda Hun Main

Bahot Sakht Mujrim Kamina Hun Main

Gunahon Ka Goya Khazina Hun Main

 

Ilahi Karam, Ilahi Karam

Ilahi Karam, Ilahi Karam

 

Na Quwwat Gunahon Se Bachne Ki Hai

Na Himmat Amal Nek Karne Ki Hai

Tera Ho Irada Agar Ae Karim

To Ho Paak Pal Me Ye Banda Laiin

 

Ilahi Gunahrar Banda Hun Main

Sarapa Bura Aur Ganda Hun Main

 

Tu Hi Ghaib Se Koi Saman Kar

Gunhon Se Bachne Ko Aasaan Kar

Irade Mere Nek Aamaal Ke

Hawale Huye Nafs Ki Chaal Ke

 

Ilahi Karam, Ilahi Karam

Ilahi Karam, Ilahi Karam

 

Agar Teri Taufeeq Ho Chara Gar

To Fir Nafs O Shaita.n Se Kya Mujhko Dar

Main Banda Tera Hun Mahaz Naam Ka

Bana De Karam Se Mujhe Kaam Ka

 

Ilahi Karam, Ilahi Karam

Ilahi Karam, Ilahi Karam

 

Talwwun Mizaji Meri Khatm Kar

Mere Azm Ko Tu Ata Jazm Kar

Ata Kar Mujhe Zarra-E-Dard-E-Dil

Tera Dard Ho Jaye Ye Aab-O-Gul

 

Ilahi Karam, Ilahi Karam

Ilahi Karam, Ilahi Karam

 

Rah-e-Ghaib Se Kar Meri Rahbari

Teri Bandagi Se Ho Izzat Meri

Dikha Ghaib Se Mujhko Rahe Nijaat

Pila Apne Murde Ko Aabe Hayaat

 

Ilahi Gunahrar Banda Hun Main

Sarapa Bura Aur Ganda Hun Main

Bahot Sakht Mujrim Kamina Hun Main

Gunahon Ka Goya Khazina Hun Main

 

Ilahi Karam, Ilahi Karam

Ilahi Karam, Ilahi Karam

 

Recited By: Hafiz Gufran

Lyrics: Maulana Hakeem Akhtar

Ilahi Gunahgar Banda Hun Main Dua Lyrics Hindi

इलाही करम, इलाही करम

इलाही करम, इलाही करम

 

इलाही गुनाहगार बन्दा हूं मैं

सरापा बुरा और गंदा हूं मैं

बहुत सख़्त मुजरिम कमीना हूं मैं

गुनाहों का गोया ख़ज़ीना हूं मैं

 

इलाही करम, इलाही करम

इलाही करम, इलाही करम

 

ना क़ुव्वत गुनाहों से बचने की है

ना हिम्मत अमल नेक करने की है

तेरा हो इरादा अगर ऐ करीम

तो हो पाक पल में ये बन्दा लईन

 

इलाही गुनाहगार बन्दा हूं मैं

सरापा बुरा और गंदा हूं मैं

 

तू ही ग़ैब से कोई सामान कर

गुनाहों से बचने को आसान कर

इरादे मेरे नेक आमाल के

हवाले हुए नफ़्श की चाल के

 

इलाही करम, इलाही करम

इलाही करम, इलाही करम

 

अगर तेरी तौफ़ीक़ हो चारागर

तो फिर नफ़्स-ओ-शैतां से क्या मुझको डर

मैं बंदा तेरा हूं महज़ नाम का

बना दे करम से मुझे काम का

 

इलाही करम, इलाही करम

इलाही करम, इलाही करम

 

तलव्वुन मिज़ाजी मेरी ख़त्म कर

मेरे अज़्म को तू अ़ता जज़्म कर

अ़ता कर मुझे ज़र्रा-ए-दर्द-ए-दिल

तेरा दर्द हो जाए ये आब-ओ-गुल

 

इलाही करम, इलाही करम

इलाही करम, इलाही करम

 

राह-ए-ग़ैब से कर मेरी रहबरी

तेरी बन्दगी से हो इज़्ज़त मेरी

दिखा ग़ैब से मुझको राहे निजात

पिला अपने मुर्दे को आबे ह़यात

 

इलाही गुनाहगार बन्दा हूं मैं

सरापा बुरा और गंदा हूं मैं

बहुत सख़्त मुजरिम कमीना हूं मैं

गुनाहों का गोया ख़ज़ीना हूं मैं

 

इलाही करम, इलाही करम

इलाही करम, इलाही करम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.