Muhammd Muhammad Meri Rooh Bole Lyrics

 

Mujhe Apni Rahmat Ke Saaye Me Le Le

Muhammd Muhammad Meri Rooh Bole

 

Ae Shahe Madina Faqir-E-Ajam Hun

Ghamon Me Ghira Hun Aseer E Alam Hun

Mujhe Apni Rahmat Ke Saaye Me Le Le

Muhammd Muhammad Meri Rooh Bole

 

Ye Duniya Bhi Kya Hai Ye Karbo-bala Hai

Nahin Sukh Yahan Par Ye Dukh Ki Jagah Hai

Mujhe Apni Rahmat Ke Saaye Me Le Le

Muhammd Muhammad Meri Rooh Bole

 

Har Ik Simt Tarikiyan Hain Jaha.N Me

Ghira Hun Ajab Dar Ajab Imtiha.N Me

Mujhe Apni Rahmat Ke Saaye Me Le Le

Muhammd Muhammad Meri Rooh Bole

 

Yahan Bhi Wahan Bhi Tera Aasra Hai

Tu Hi Dard Mando.n Ke Dil Ki Dawa

Mujhe Apni Rahmat Ke Saaye Me Le Le

Muhammd Muhammad Meri Ruh Bole

 

Bata Taaj Kab Tak Bhatakta Rahunga

Jo Baaqi Umar Hai Main Kahta Rahunga

Mujhe Apni Rahmat Ke Saaye Me Le Le

Muhammd Muhammad Meri Ruh Bole

 

Recited By: Hafiz Umair Qureshi

Lyrics: Taj Bahadur Taj

 

Muhammd Muhammad Meri Rooh Bole Lyrics Hindi

मुझे अपनी रह़मत के साए में ले ले

मुह़म्मद मुह़म्मद मेरी रूह बोले

 

ऐ शाहे है मदीना फक़ीर-ए-अजम हूँ

ग़मों में घिरा हूं असीर-ए-अलम हूं

मुझे अपनी रह़मत के साए में ले ले

मुह़म्मद मुह़म्मद मेरी रूह बोले

 

ये दुनिया भी क्या है ये कर्बोबला है

नहीं सुख यहां पर ये दुख की जगह है

मुझे अपनी रह़मत के साए में ले ले

मुह़म्मद मुह़म्मद मेरी रूह बोले

 

हर इक सिम्त तारीकियां हैं जहां में

घिरा हूँ अजब दर अजब इम्तिहां में

मुझे अपनी रह़मत के साए में ले ले

मुह़म्मद मुह़म्मद मेरी रूह बोले

 

यहां भी वहां भी तेरा आसरा है

तू ही दर्द मन्दों के दिल की दवा है

मुझे अपनी रह़मत के साए में ले ले

मुह़म्मद मुह़म्मद मेरी रूह बोले

 

बता ताज कब तक भटकता रहूंगा

जो बाक़ी उम्र है मैं कहता रहूंगा

मुझे अपनी रह़मत के साए में ले ले

मुह़म्मद मुह़म्मद मेरी रूह बोले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.