दरपेश हो तयबा का सफर कैसा लगेगा

दरपेश हो तयबा का सफर कैसा लगेगा   दरपेश हो तयबा का सफर कैसा लगेगा रख दूं दरे-सरकार पे सर कैसा लगेगा बड़ा अच्छा लगेगा, बड़ा प्यारा लगेगा दरपेश हो तयबा का सफर कैसा लगेगा रख दूं दरे-सरकार पे सर कैसा लगेगा जब दूर से है इतना हसीं गुम्बदे-ख़ज़रा इस पार ये आलम है उधर …

दरपेश हो तयबा का सफर कैसा लगेगा Read More »