पड़ते रहो नमाज़ ये क़ौले रसूल है

पड़ते रहो नमाज़ ये क़ौले रसूल है एक रोज़ मोमिनों तुम्हें मरना ज़रूर है पड़ते रहो नमाज़ ये क़ौले रसूल है अल्लाह, अल्लाह, अल्लाह अल्लाह, अल्लाह, अल्लाह एक रोज़ मोमिनों तुम्हें मरना ज़रूर है पड़ते रहो नमाज़ ये क़ौले रसूल है पड़ते रहो नमाज़ तो चेहरे पे नूर है पड़ते नहीं नमाज़ तो अपना कसूर …

पड़ते रहो नमाज़ ये क़ौले रसूल है Read More »