Lahad Mein Ishq-e-Rukh-e-Shah Ka Daag Le Ke Chale Hindi Lyrics

Lahad Mein Ishq-e-Rukh-e-Shah Ka Daag Le Ke Chale Hindi Lyrics लह़द में इ़श्क़-ए-रुख़-ए-शह का दाग़ ले के चले अंधेरी रात सुनी थी चिराग़ ले के चले तेरे ग़ुलामों का नक़्श-ए-क़दम है राह-ए-ख़ुदा वोह क्या बहक सके जो येह सुराग़ ले के चले जिनां बनेगी मुह़िब्बाने चार यार की क़ब्र जो अपने सीने में येह चार …

Lahad Mein Ishq-e-Rukh-e-Shah Ka Daag Le Ke Chale Hindi Lyrics Read More »