Kya poochhte ho rutba e Gulzar e madina Lyrics

Kya poochhte ho rutba e Gulzar e madina Lyrics   क्या पूछते हो रुतबा ए गुलज़ार ए मदीना चूमे जिसे जिब्रील वो है खार ए मदीना   जिब्रील ए अमीं आंख बिछाते थे हिरा में उक़बे में कहां तूर कहां गार ए मदीना   कौसर कभी पुल पर कभी मीज़ान ए अमल पर उम्मत के …

Kya poochhte ho rutba e Gulzar e madina Lyrics Read More »