Ashraf Tere Langar Se Lakhon Ka Guzara Hai Lyrics

 Ashraf Tere Langar Se Lakhon Ka Guzara Hai Lyrics

 

ये दर तो हक़ीक़त में दुखियों का सहारा है
अशरफ़ ! तेरे लंगर से लाखों का गुज़ारा है

बिगड़ी हुई तक़दीरें इक पल में सँवरती हैं
जिस ने भी मुसीबत में अशरफ़ को पुकारा है

अशरफ़ ! तेरी गलियों से जाएँ तो कहाँ जाएँ ?
इस दर का नज़ारा तो जन्नत का नज़ारा है

या अशरफ़ ! करम करना दुखियों ने पुकारा है
मँझधार में है कश्ती और दूर किनारा है

टूटी हुई कश्ती है और दूर किनारा है
गर कोई नहीं अपना, अशरफ़ तो हमारा है

ना’त-ख़्वाँ:
मुईनुद्दीन बुलबुल-ए-मुस्तजाब

 

 

Ye Dar To Haqeeqat Men Dukhiyon Ka Sahaara Hai
Ashraf ! Tere Langar Se Laakhon Ka Guzaara Hai

Bigdi Hui Taqdeeren Ik Pal Men Sanwarti Hain
Jis Ne Bhi Museebat Men Ashraf Ko Pukaara Hai

Ashraf ! Teri Galiyon Se Jaaen To Kahaan Jaaen ?
Is Dar Ka Nazaara To Jannat Ka Nazaara Hai

Ya Ashraf ! Karam Karna Dukhiyon Ne Pukaara Hai
Manjhdhaar Men Hai Kashti Aur Door Kinaara Hai

Tooti Hui Kashti Hai Aur Door Kinaara Hai
Gar Koi Nahin Apna, Ashraf To Hamaara Hai

Naat-Khwaan:
Moinuddin Bulbul-E-Mustajab

 

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.