Hai Jahan Mein Kaun Aisa Mutaza Ali Jaisa Lyrics

Hai Jahan Mein Kaun Aisa Mutaza Ali Jaisa Lyrics

 

Hai Jahaa N Me N Kaun Aisa ? Murtaza ‘Ali Jaisa
Kis Ka Hai Maqaam Aisa ? Murtaza ‘Ali Jaisa

Kaa’be Me N Wilaadat Ka Sharf Jis Ko Haasil Hai
Kis Ka Hai Naseeb Aisa ? Murtaza ‘Ali Jaisa

Band Aankh Ko Khol Di Jaise Mustafa Aae
‘Ishq Ho To Bas Aisa Murtaza ‘Ali Jaisa

Hukm-E-Rab Tahat Jis Ki Faatima Bani Dulhan
Khush-Naseeb Kaun Aisa ? Murtaza ‘Ali Jaisa

‘Arz Hai Khuda ! Seena Noor Se Munawwar Ho
Dil Bana De Bas Aisa Murtaza ‘Ali Jaisa

Mai N Gulaam-Muhammad Hu N Naaz Hai Mai N Sayyid Hu N
Daada Bhi To Hai Kaisa Murtaza ‘Ali Jaisa

Naat-Khwaan:
Syed Ilmuddin Qadri

है जहाँ में कौन ऐसा ? मुर्तज़ा ‘अली जैसा
किस का है मक़ाम ऐसा ? मुर्तज़ा ‘अली जैसा

का’बे में विलादत का शर्फ़ जिस को हासिल है
किस का है नसीब ऐसा ? मुर्तज़ा ‘अली जैसा

बंद आँख को खोल दी जैसे मुस्तफ़ा आए
‘इश्क़ हो तो बस ऐसा, मुर्तज़ा ‘अली जैसा

हुक्म-ए-रब तहत जिस की फ़ातिमा बनी दुल्हन
ख़ुश-नसीब कौन ऐसा ? मुर्तज़ा ‘अली जैसा

‘अर्ज़ है, ख़ुदा ! सीना नूर से मुनव्वर हो
दिल बना दे बस ऐसा, मुर्तज़ा ‘अली जैसा

मैं ग़ुलाम-मुहम्मद हूँ, नाज़ है मैं सय्यिद हूँ
दादा भी तो है कैसा, मुर्तज़ा ‘अली जैसा

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद इल्मुद्दीन क़ादरी

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.