Manzar Fiza-e-Dahar Mein Sara Ali Ka Hai Lyrics | Jis Samt Dekhta Hun Nazara Ali Ka Hai

Manzar Fiza-e-Dahar Mein Sara Ali Ka Hai Lyrics

 

 

 

Manzar Fiza-E-Dahar Me N Saara ‘Ali Ka Hai
Jis Samt Dekhta Hu N Nazaara ‘Ali Ka Hai

Duniya-E-Aashti Ki Phaban Mujtaba Hasan
Lakht-E-Jigar Nabi Ka Tu Pyaara ‘Ali Ka Hai

Hasti Ki Aab-O-Taab Husain Aasmaa N Janaab
Zahra Ka Laal Raaj Dulaara ‘Ali Ka Hai

Marhab Do-Neem Hai Sar-E-Maqtal Pa Da Huaa
Uthne Ka Ab Nahi N Ki Ye Maara ‘Ali Ka Hai

Kul Ka Jamaal Juzw Ke Chehre Se Hai ‘Ayaa N
Gho De Pe Hai N Husain Nazaara ‘Ali Ka Hai

Ai Arz-E-Paak ! Tujh Ko Mubaarak Ki Tere Paas
Parcham Nabi Ka Chaand Sitaara ‘Ali Ka Hai

Tum Dakhl De Rahe Ho ‘Aqeedat Ke Baab Me N
Dekho ! Mu’aamla Ye Hamaara ‘Ali Ka Hai

Ham Faqr-E-Mast Chaahne Waale ‘Ali Ke Hai N
Dil Par Hamaare Sirf Ijaara ‘Ali Ka Hai

Duniya Me N Aur Kaun Hai Apna Ba-Juz ‘Ali
Ham Bekaso N Ko Hai To Sahaara ‘Ali Ka Hai

Tu Kya Hai Aur Kya Hai Tere ‘Ilm Ki Bisaat
Tujh Par Karam Naseer ! Ye Saara ‘Ali Ka Hai

Poet:
Pir Naseeruddin Naseer

Naat-Khwaan:
Syed Fasihuddin Soharwardi

 

 

 

मंज़र फ़िज़ा-ए-दहर में सारा ‘अली का है
जिस सम्त देखता हूँ, नज़ारा ‘अली का है

दुनिया-ए-आश्ती की फबन, मुज्तबा हसन
लख़्त-ए-जिगर नबी का तू प्यारा ‘अली का है

हस्ती की आब-ओ-ताब, हुसैन आसमाँ जनाब
ज़हरा का लाल, राज दुलारा ‘अली का है

मरहब दो-नीम है सर-ए-मक़्तल पड़ा हुआ
उठने का अब नहीं कि ये मारा ‘अली का है

कुल का जमाल जुज़्व के चेहरे से है ‘अयाँ
घोड़े पे हैं हुसैन, नज़ारा ‘अली का है

ऐ अर्ज़-ए-पाक ! तुझ को मुबारक कि तेरे पास
परचम नबी का, चाँद सितारा ‘अली का है

तुम दख़्ल दे रहे हो ‘अक़ीदत के बाब में
देखो ! मु’आमला ये हमारा ‘अली का है

हम फ़क़्र-ए-मस्त, चाहने वाले ‘अली के हैं
दिल पर हमारे सिर्फ़ इजारा ‘अली का है

दुनिया में और कौन है अपना ब-जुज़ ‘अली
हम बेकसों को है तो सहारा ‘अली का है

तू क्या है और क्या है तेरे ‘इल्म की बिसात
तुझ पर करम, नसीर ! ये सारा ‘अली का है

शायर:
पीर नसीरुद्दीन नसीर

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद फ़सीहुद्दीन सोहरवर्दी

 

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.