Millat Ke Rehnuma Hain Hazrat Imam Jafar Lyrics

Millat Ke Rehnuma Hain Hazrat Imam Jafar Lyrics

 

 

 

 

Millat Ke Rahnuma Hai N Hazrat Imaam Jaa’far
Sardaar-E-Auliya Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Kirdaar Me N Jhalak Hai Anwaar-E-Mustafa Ki
Nooraani Aaina Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

In Ko Waseela Kar Lo Sab Kuchh Tumhe N Milega
Allah Ki Riza Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Seena-Ba-Seena Pahunchi Hasnain Ki Wiraasat
Farzand-E-Murtaza Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

In Se Hui Do-Baala Saadaat Ki Tajalli
Ik Nayyar-E-Safa Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Kaunain Ki Bulandi Hai In Ke Naqsh-E-Paa Me N
Mahboob-E-Mustafa Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Siddiq Ke Karam Se In Ka Laqab Hai Saadiq
Faarooq Ki ‘Ata Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Kunde Ka Ye Tabarruk Dil-Taab-O-Jaa N-Fiza Hai
Imaan Ki Ziya Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Jo Kuchh Bhi In Se Maanga Ham Ko Mila Fareedi !
‘Usmaan Ki Sakha Hai N Hazrat Imaam Jaa’far

Poet:
Salman Raza Fareedi

Naat-Khwaan:
Hafiz Tahir Qadri

 

 

 

 

मिल्लत के रहनुमा हैं हज़रत इमाम जा’फ़र
सरदार-ए-औलिया हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

किरदार में झलक है अनवार-ए-मुस्तफ़ा की
नूरानी आईना हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

इन को वसीला कर लो, सब कुछ तुम्हें मिलेगा
अल्लाह की रिज़ा हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

सीना-ब-सीना पहुँची हसनैन की विरासत
फ़रज़ंद-ए-मुर्तज़ा हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

इन से हुई दो-बाला सादात की तजल्ली
इक नय्यर-ए-सफ़ा हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

कौनैन की बुलंदी है इन के नक़्श-ए-पा में
महबूब-ए-मुस्तफ़ा हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

सिद्दीक़ के करम से इन का लक़ब है सादिक़
फ़ारूक़ की ‘अता हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

कूँडे का ये तबर्रुक दिल-ताब-ओ-जाँ-फ़िज़ा है
ईमान की ज़िया हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

जो कुछ भी इन से माँगा, हम को मिला, फ़रीदी !
‘उस्मान की सख़ा हैं हज़रत इमाम जा’फ़र

शायर:
सलमान रज़ा फ़रीदी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

millat ke rahnuma hai.n hazrat imaam jaa’far
sardaar-e-auliya hai.n hazrat imaam jaa’far

kirdaar me.n jhalak hai anwaar-e-mustafa ki
nooraani aaina hai.n hazrat imaam jaa’far

in ko waseela kar lo, sab kuchh tumhe.n milega
allah ki riza hai.n hazrat imaam jaa’far

seena-ba-seena pahunchi hasnain ki wiraasat
farzand-e-murtaza hai.n hazrat imaam jaa’far

in se hui do-baala saadaat ki tajalli
ik nayyar-e-safa hai.n hazrat imaam jaa’far

kaunain ki bulandi hai in ke naqsh-e-paa me.n
mahboob-e-mustafa hai.n hazrat imaam jaa’far

siddiq ke karam se in ka laqab hai saadiq
faarooq ki ‘ata hai.n hazrat imaam jaa’far

kunDe ka ye tabarruk dil-taab-o-jaa.n-fiza hai
imaan ki ziya hai.n hazrat imaam jaa’far

jo kuchh bhi in se maanga, ham ko mila, Fareedi !
‘usmaan ki saKHa hai.n hazrat imaam jaa’far

Poet:
Salman Raza Fareedi

Naat-Khwaan:
Hafiz Tahir Qadri

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.