Mola Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai Lyrics

Mola Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai Lyrics

Mola Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai Lyrics
मौला अली का प्यारा करबल को जा रहा है

Manqabat Shahidan e Karbala | Nohay Lyrics|

Naat Khwan: Owais Raza Qadri

Mola Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai
Noor-e-Nazar Nabi Ka Taiba Se Ja Raha Hai
मौला अली का प्यारा करबल को जा रहा है
नूर-ए-नज़र नबी का तैबा से जा रहा है

Le Lo Salam-e-Akhir Ruksat Mujhe Do Nana
Islam Ko Bachane Shabbir Ja Raha Hai
ले लो सलाम-ए-आख़िर रुक़सत मुझे दो नाना
इस्लाम को बचाने शब्बीर जा रहा है

Ja Kar Baqi Me Bhi Amma Se Yun Pukara
Ye Ladla Tumhara Is Darr Se Ja Raha Hai
जाकर बक़ी में भी अम्मा से यूं पुकारा
ये लाडला तुम्हारा इस दर से जा रहा है

Ro Kar Pukare Nana Chhut’ta hai Ye Madina
Shabbir Ko Yahi Gham Aansu Rula Raha Hai
रो कर पुकारें नाना छुटता है ये मदीना
शब्बीर को यही ग़म आंसू रुला रहा है

Lete The Jis Gale Par Bosey Nabi Muhammad
Us Hee Gale Pe Dushman Khanjar Chala Raha Hai
लेते थे जिस गले पर बोसे नबी मुह़म्मद
उस ही गले पे दुश्मन खंजर चला रहा है

Matlab Ye Sar Kata Kar Asghar Ka Khoon De kar
Shabbir Apne Nana Ka Dee.n Bacha Raha Hai
मतलब ये सर कटा कर असग़र का खून देकर
शब्बीर अपने नाना का दीं बचा रहा है

Yusuf Baya.n Karen Kya Karbal Ki Daasta.n Ko
Khulti Nahin Zaba.n Par Dil Kaanp Ja Raha Hai
युसुफ़ करें बयां क्या करबल की दास्तां को
खुलती नहीं ज़बां पर दिल कांप जा रहा है

Mola Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai
Noor-e-Nazar Nabi Ka Taiba Se Ja Raha Hai
मौला अली का प्यारा करबल को जा रहा है
नूर-ए-नज़र नबी का तैबा से जा रहा है

Mola Ali Ka Pyara Lyrics

Maula Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai Lyrics

 

Maula Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai
Noore Nazar Nabi Ka Taybaah Se Jaa Raha Hai

Lelo Salame Aakhir Rukhsat Muje Do Naana
Islaam Ko Bachaane Shabbir Ja Raha Hai

Ja Kar Baqee Mein Bhi Amma Yun Pukaara
Ye Laadla Tumhaara Is Dar Se Ja Raha Hai

Ro Kar Pukaare Naana , Chhut Ta Hai Ye Madina
Shabbir Ko Yahi Gham Aansu Rula Raha Hai

Lete The Jis Gale Par Bose , Nabi Muhammad
Us Hi Ghale Pe Dushman Khanjar Chala Raha Hai

Matlab Ye Sar Kata Kar Asgar Ka Khoon De Kar
Shabbir Apne Naana Ka Deen Bacha Raha Hai

Yusuf Bayaan Kare Kya Karbal Ki Daastaan Ko
Khulti Nahin Zabaan Aur Di Kaampa Ja Raha Hai

Maula Ali Ka Pyara Karbal Ko Ja Raha Hai Lyrics in Hindi

मौला अली का प्यारा करबल को जा रहा है
नूरे नज़र नबी का , तयबाह से जा रहा है

लेलो सलामे आखिर , रुखसत मुझे दो नाना
इस्लाम को बचाने , शब्बीर जा रहा है

जा कर बक़ी में भी अम्मा यूँ पुकारा
ये लाडला तुम्हारा , इस दर से जा रहा है

रो कर पुकारे नाना , छूट ता है ये मदीना
शब्बीर को यही ग़म आंसू रुला रहा है

लेते थे जिस गले पर बोसे , नबी मुहम्मद
उस ही गले पे दुश्मन खंजर चला रहा है

मतलब ये सर कटा कर , असगर का खून दे कर
शब्बीर अपने नाना का दीं बचा रहा है

युसूफ बयां करे क्या करबल की दास्ताँ को
खुलती नहीं ज़बां और दिल काम्पा जा रहा है

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.