NABI KE NAWASE HUSSAIN IBN E HAIDER NAAT LYRICS

NABI KE NAWASE HUSSAIN IBN E HAIDER NAAT LYRICS

Nabi Ke Nawase Hussain Ibn E Haider
Larakpan Ka Wada Nibhanay Chalay Hain
Soye Karbala Woh Bahatar (72) Ko Lekar
Razaye Khuda Sar Katanain Chalay Hain

Who Duld Pey Dekho Shahadat Ki Dhun Mein
Chaley Taigh Lekar Woh Shair E Khuda Ki
Akeley Woh Ran Ki Taraf Allah Allah
Lainon Ki Basti Mitaney Chalay Hain

Nabi Ke Nawase Hussain Ibn E Haider
Larakpan Ka Wada Nibhanay Chalay Hain

Woh Ghar Se Nikal Kar Madiney Ke Bahar
Kharey Keh Rahay Hain Yeh Zahra Ke Jani
Lainon Se Keh Do Ke Ummat Ki Khatir
Hussain Apne Ghar Ko Lutane Chalay Hain

Nabi Ke Nawase Hussain Ibn E Haider
Larakpan Ka Wada Nibhanay Chalay Hain

Jidhar Dekhiye Mout Ka Hai Andhera
Yeh Ro Ro Key Kehta Hai Dil Aaj Mera
Hazaron Key Narghey Mein Shabir Tanha
Lahoo Apna Dil Ka Bahanay Chalay Hain

Nabi Ke Nawase Hussain Ibn E Haider
Larakpan Ka Wada Nibhanay Chalay Hain

Ateeq Iban E Haidar Ka Seeney Mein Gham Hai
Jabhi Asim Meri Aankhon Mein Nam Hai
Woh Zahra Ke Peyare Ali Ke Dularey
Hai Waqt E Umar Sar Jhukanay Chalay Hain

Nabi Ke Nawase Hussain Ibn E Haider
Larakpan Ka Wada Nibhanay Chalay Hain

 

नबी के नवासे हुसैन इब्न-ए-हैदर, लड़कपन का वा’दा निभाने चले हैं
सू-ए-कर्बला वो बहत्तर को ले कर, रज़ा-ए-ख़ुदा सर कटाने चले हैं

वो दुलदुल पे देखो शहादत की धुन में चले तेग़ ले कर के शेर-ए-ख़ुदा की
अकेले वो रन की तरफ़, अल्लाह-अल्लाह ! ल’ईनों की हस्ती मिटाने चले हैं

वो घर से निकल कर, मदीने के बाहर, खड़े कह रहे हैं ये ज़हरा के जानी
ल’ईनों से कह दो कि उम्मत की ख़ातिर हुसैन अपने घर को लुटाने चले हैं

जिधर देखिए मौत का है अँधेरा, ये रो रो के कहता है दिल आज मेरा
हज़ारों के नर्ग़े में शब्बीर तन्हा लहू अपने दिल का बहाने चले हैं

‘अतीक़ ! इब्न-ए-हैदर का सीने में ग़म है, जभी आज मेरी ये आँखें भी नम हैं
वो ज़हरा के प्यारे, ‘अली के दुलारे, है वक़्त-ए-असर, सर झुकाने चले हैं

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: