Sar Pe Nalain Aapke Hote Naat Lyrics

 

सर पे नालैन आपके होते
और तैबा में हम खड़े होते।

 

जिनमें खुशबू बसी है आक़ा की
वो दर-ओ-बाम चूमते होते।

 

करते ख़िदमत सगान-ए-तैबा की
हम भी तक़दीर के बड़े होते।

 

मौत आ जाती उनकी चौखट पर
मुझ पे जन्नत में तब्सिरे होते।

 

दफ़न होता मैं उनके रस्ते में
काश वो पाओं रख दिये होते।

 

प्यास से मैं तड़प रहा होता
आप कौसर पिला रहे होते।

 

सख़्ती-ए-हश्र का करूं शिकवा
वो भी सरकार आपके होते!

 

आप तशरीफ़ रखते मीज़ां पर
फ़िर ग़ुलामों के फ़ैसले होते।

 

काश दौर-ए-हुसैन मिल जाता
साथ में कर्बला गये होते।

 

Naat Khwan: Shaif Raza Kanpuri

Sar Pe Nalain Aapke Hote
Aur Taiba Me Ham Khade Hote

 

Jinme Khushboo Basi Hai Aaqa Ki
Wo Dar-o-baam Choomte Hote

 

Karte Khidmat Sagaan-e-Taiba Ki
Ham Bhi Taqdeer Ke Bade Hote

 

Maut Aa Jaati Unki Chokhat Par
Mujh Pe Jannat Me Tabsire Hote

 

Dafan Hota Main Unke Raste Me
Kaash Wo Paaon Rakh Diye Hote

 

Pyaas Se Main Tadap Raha Hota
Aap Kausar Pila Rahe Hote

 

Sakhti-e-hashr Ka Karun Shikwa
Wo Bhi Sarkar Aapke Hote

 

Aap Tashreef Rakhte Meeza.n Par
Phir Ghulamon Ke Faisle Hote

 

Kash Daur-e-hussain Mil Jata
Saath Me Karbala Gaye Hote

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.