Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Marhaba Marhaba Lyrics

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Marhaba Marhaba Lyrics

Aastan Hai Ye Kis Shahe Zeeshan Ka Lyrics

Select Language

Aastaañ Hai Ye Kis Shaahe Zishaan Ka “MARHABA MARHABA”

 

Qalb Haibat Se Larza Hai Insaan Ka “MARHABA MARHABA”

 

Hai Asar Bazm Par Kis Ke Faizan Ka “MARHABA MARHABA “

 

Ghar Basa De Meri Chashme Wiraan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

Chaand Nikla Hasan Ke Shabistaan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

 

Sar Ki Zeenat Imama Hai Irfaan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

Jubba Tan Par Mohammad (ﷺ) Ke Ehsaan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

Rang Aañkho Me Zahra Ke Faizan Ka “MARHABA MARHABA”

 

Roop Chehre Pe Aayaate Qur’aan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

Saj Ke Baitha Hai Naushaah Jilaan Ka “MARHABA MARHABA”

 

 

 

Bazme Kaun-O- Makaañ Ko Sajaaya Gaya,

“AAJ SALLE ALA”

 

Saaibaañ Rahmatoñ Ka Lagaya Gaya

“AAJ SALLE ALA”

 

Ambiya Auliya Ko Bulaya Gaya

“AAJ SALLE ALA”

 

Ibne Zahra Ko Dulha Banaya Gaya

“AAJ SALLE ALA”

 

Urs Hai Aaj Mahboob-e-Sub’haan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

Aasmaa Manzilat Kis Ka Aiwaan Hai,

“WAAH KYA SHAAN HAI”

 

Aaj Khalqe Khuda Kiska Aiwaan Hai,

“WAAH KYA SHAAN HAI “

 

Laa-Takhaf Jis Ka Mash’Hoor Farman Hai,

“WAAH KYA SHAAN HAI”

 

Bil-Yaqeeñ Wo ShahanShaah-e-Jilaan Hai,

“WAAH KYA SHAAN HAI”

 

Haq Diya Jisko Qudrat Ne Ailaan Ka

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

 

Har Taraf Aaj Rahmat Ki Barsaat Hai,

“WAAH KYA BAAT HAI”

 

Aaj Khulne Pe Qufle Muhimmaat Hai,

“WAAH KYA BAAT HAI”

 

Chaar Su Jalwa Aarayiye Zaat Hai,

“WAAH KYA BAAT HAI”

 

Koi Bharne Pe Kashkol Haajaat Hai,

“WAAH KYA BAAT HAI”

 

Jaagne Ko Muqaddar Hai Insaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

Koi Mahwe Fugan, Koi Khaamosh Hai,

“AB KISE HOSH HAI”

 

Saaz-e-Mutrib Ke Liye Nagma Bardosh Hai,

“AB KISE HOSH HAI”

 

Aql Hairat Ke Parde Me Roo Pish Hai,

“AB KISE HOSH HAI”

 

Bazm Ki Bazm Masti Dar Aagosh Hai,

“AB KISE HOSH HAI”

 

Pee Ke Saagar Ali Ke Khumistaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

Kya Haseeñ Manzar-e-Jood-O-Ikraam Hai,

“DA’WAT-E-AAM HAI”

 

Ahle Dil Ki Nazar Masti Aashaam Hai,

“DA’WAT-E-AAM HAI”

 

Hashr Tak Muddat-e-Gardish-e-Jaam Hai,

“DA’WAT-E-AAM HAI”

 

Dast-e-Jibreel Mashroof-e-It’aam Hai,

“DA’WAT-E-AAM HAI”

 

Khaao Sadqa Ali Shaah-e-Mardaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

Sham’a Tauheed Dil Me Jala Kar Piyo,

“DIL LAGA KAR PIYO”

 

Shaahe Bat’ha Ki Khairaat Paa Kar Piyo,

“DIL LAGA KAR PIYO”

 

Nagma Kaasaay-e-Wasl Gaa Kar Piyo,

“DIL LAGA KAR PIYO”

 

Aañkh Mehr-e-Ali Se Mila Kar Piyo,

“DIL LAGA KAR PIYO”

 

Khud Pilaane Pe Saaqi Hai Jilaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

Hai Husn Ka Baañkpan Saamne,

“EK CHAMAN SAAMNE”

 

Ahle Tat’heer Hai Khaima Zan Saamne,

“EK CHAMAN SAAMNE”

 

Hai Ye Roo-e-Hasan Ki Faban Saamne,

“EK CHAMAN SAAMNE”

 

Jalwa Farma Hai Gaus-e-Zaman Saamane,

“EK CHAMAN SAAMNE”

 

Dekhiye Kya Bane Chashme Wiraan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

Gulshan-e-Mustafa (ﷺ) Ki Faban Aur Hai,

“YE CHAMAN AUR HAI”

 

Shaah-e-Abraar Ki Anjuman Aur Hai,

“YE CHAMAN AUR HAI”

 

Boo-e-Guldasta-e-Panjatan Aur Hai,

“YE CHAMAN AUR HAI”

 

Shaan-e-Aal-e-Hussain-O-Hasan Aur Hai,

“YE CHAMAN AUR HAI”

 

Sarmadi Rang Hai Is Gulistaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

Faqr Ki Saltanat Turfaye Saamaan Hai,

“RAHMAT AIWAAN HAI”

 

Iske Zere Nageeñ Qalb-e-Insaan Hai,

“AJZE UNWAAN HAI”

 

Kis Ki Daste Nazar Kaasa Gardaan Hai,

“AQL HAIRAAN HAI”

 

Ek Wali Zaibe Range Irfaan Hai,

“WAAH KYA SHAAN HAI”

 

Sar Jhuke Haiñ Yahaañ Meer-O-Sultaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

Har Ghadi Mehrbaañ Faiz Jaari Rahe,

“FAIZ JAARI RAHE”

 

Khaak Bosi Pe Baad-e-Baari Rahe,

“FAIZ JAARI RAHE”

 

Aalam-e-Kaif Me Bazm-e-Saari Hai,

“FAIZ JAARI RAHE”

 

Bekhudi Tere Mastoñ Pe Taari Rahe,

“FAIZ JAARI RAHE”

 

Faizañ Barasta Rahe Tere Ehsaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

Tere Diwaane Haazir Hai Sarkar Me,

“AAJ DARBAR ME”

 

Sar Jhukaaye Janaab-e-Gohar Baar Me,

“AAJ DARBAR ME”

 

Ban Ke Saail Teri Bazm-e-Anwaar Me,

“AAJ DARBAAR ME”

 

Yusuf-e-Misr Dil Tere Baazaar Me,

“AAJ DARBAR ME”

 

Jashn Hai Kya Dil Afroz Irfaañ Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

Dar Ba-Dar Muft Ki Thokre Khaaye Kyuñ,

“HAATH FAILAAY KYUÑ”

 

Maangne Koi Agyaar Me Jaaye Kyuñ,

“HAATH FAILAAY KYUÑ”

 

Unke Naamoos Gairat Pe Harf Aaye Kyuñ,

“HAATH FAILAAY KYUÑ”

 

Dil Qana’at Ki Zau Se Na Chamkaaye Kyuñ,

“HAATH FAILAAY KYUÑ”

 

Jo Namak Khwaañ Rahooñ Pir-e-Piraan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

Shaah-e-Jilaañ Ki Chaukhat Salaamat Rahe,

“TA’QAYAAMAT RAHE”

 

Naqsh-e-Paa Ka Chaman Pur-Karaamat Rahe,

“TA’QAYAAMAT RAHE”

 

Khal’ate Ijteba Zebe Qaamat Rahe,

“TA’QAYAAMAT RAHE”

 

Sar Pe Waliyo Ka Taaj-e-Imaamat Rahe,

“TA’QAYAAMAT RAHE”

 

Silsila Gaus-e-Aazam Ka Faizaan Ka,

“TA’QAYAAMAT RAHE”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

Waaris-e-Khatm-e-Mursaleen Aap Haiñ,

“BIL-YAQEEÑ AAP HAI”

 

Qasr-e-Zahra Ka Naqsh-e-Haseeñ Aap Haiñ,

“BIL-YAQEEÑ AAP HAI”

 

Deen-e-Barhaq Ke Moheeñ-O-Moin Aap Haiñ,

“BIL-YAQEEÑ AAP HAI”

 

Bazm-e-Irfaañ Ke Masnad Nasheeñ Aap Haiñ,

“BIL-YAQEEÑ AAP HAI”

 

Har Wali Tufl Hai Is Dabistaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

Mazhar-e-Zaat-e-Rabbe Qadeer Aap Haiñ,

“DASTAGEER AAP HAIÑ”

 

Kasrwaan-e-Karam Ke Ameer Aap Haiñ,

“DASTAGEER AAP HAIÑ”

 

Shaah-e-Bagdaad Piraan-e-Peer Aap Haiñ,

“DASTAGEER AAP HAIÑ”

 

Is Naseer-e-Hazeeñ Ke Naseer Aap Haiñ,

“DASTAGEER AAP HAIÑ”

 

Koi Hamsar Nahi Aapki Shaan Ka,

“MARHABA MARHABA”

 

 

 

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Marhaba Marhaba Lyrics In Hindi

 

 

आस्तान है ये किस शाहे ज़ीशान का “मरहबा मरहबा”

 

क़ल्ब हैबत से लर्ज़ा है इंसान का “मरहबा मरहबा”

 

है असर बज़्म पर किस के फैज़ान का “मरहबा मरहबा”

 

घर बसा दे मेरी चश्मे विरान का “मरहबा मरहबा”

 

चांद निकला हसन के शबिस्तान का “मरहबा मरहबा”

 

 

 

सर की ज़ीनत इमामा है इरफ़ान का “मरहबा मरहबा”

 

जुब्बा तन पर मोहम्मद (ﷺ) के एहसान का “मरहबा मरहबा”

 

रंग आंखों में ज़हरा के फैज़ान का “मरहबा मरहबा”

 

रूप चेहरे पे आयाते कुरान का “मरहबा मरहबा”

 

सज के बैठा है नौशाह जिलान का “मरहबा मरहबा”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

बजमे कौन-ओ- मकान को सजया गया, “आज सल्ले आ

अला”

 

साईबां रहमतों का लगा गया “आज साले अला”

 

अंबिया औलिया को बुलाया गया “आज सल्ले अला”

 

इब्ने ज़हरा को दुल्हा बनाया गया “आज सल्ले अला”

 

उर्स है आज महबूब-ए-सुब्हान का “मरहबा मरहबा”

 

 

 

आसमा मंज़िलत किस का ऐवान है, “वाह क्या शान है”

 

आज खल्क ए खुदा किसकी मेहमान है, “वाह क्या शान है”

 

ला-तखफ जिस का मशहूर फरमान है, “वाह क्या शान है”

 

बिल-यकीँ वो शहनशाह-ए-जिलान है, “वाह क्या शान है”

 

हक़ दिया जिस्को क़ुदरत ने ऐलान का “मरहबा मरहबा”

 

 

 

हर तरफ आज रहमत की बरसात है, “वाह क्या बात है”

 

आज खुलने पे कुफले मुहीम्मात है, “वाह क्या बात है”

 

चार सु जलवा आरायि ए ज़ात है, “वाह क्या बात है”

 

कोई भरने पे कशकोल हाजात है , “वाह क्या बात है”

 

जागने को मुकद्दर है इंसान का, “मरहबा मरहबा”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

कोई महवे फुगन, कोई खामोश है, “अब किसे होश है”

 

साज़-ए-मुतरिब के लिए नगमा बरदोश है, “अब किसे होश है”

 

अक्ल हैरत के परदे में रू पोश है, “अब किसे होश है”

 

बज़्म की बज़्म मस्ती दर आगोश है, “अब किसे होश है”

 

पी के सागर अली के खुमिस्तान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

 

क्या हसीन मंज़र-ए-जुद-ओ-इकराम है, “दावत-ए-आम है”

 

अहले दिल की नज़र मस्ती आगोश है, “दावत-ए-आम है”

 

हशर तक मुद्दत-ए-गर्दिश-ए-जाम है, “दावत-ए-आम है”

 

दस्त-ए-जिब्रील मशरूफ-ए-इत’आम है, “दावत-ए-आम है”

 

खाओ सदका अली शाह-ए-मर्दान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

 

शम’अ तौहीद दिल में जला कर पियो, “दिल लगा कर पियो”

 

शाह ए बतहा की खैरात पा कर पियो, “दिल लगा कर पियो”

 

नगमा कासाय-ए-वस्ल गा कर पियो, “दिल लगा कर पियो”

 

आंख मेहर-ए-अली से मिला कर पियो, “दिल लगा कर पियो”

 

खुद पिलाने पे साकी है जिलान का, “मरहबा मरहबा”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

है हुस्न का बांकपन सामने, “एक चमन सामने”

 

अहले तत्हीर है खैमा जान सामने, “एक चमन सामने”

 

है ये रू-ए-हसन की फबन सामने, “एक चमन सामने”

 

जलवा फरमा है गौस-ए-ज़मन सामने, “एक चमन सामने”

 

देखे क्या बने चश्मे विरान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

गुलशन-ए-मुस्तफा (ﷺ) की फबन और है, “ये चमन और है”

 

शाह-ए-अबरार की अंजुमन और है, “ये चमन और है”

 

बू-ए-गुलदास्ता-ए-पंजातन और है, “ये चमन और है”

 

शान-ए-आल-ए-हुसैन-ओ-हसन और है, “ये चमन और है”

 

सरमदी रंग है इस गुलिस्तान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

 

फक्र की सल्तनत तुरफाये सामान है, “रहमत ऐवान है”

 

इस्के ज़ेरे नगी क़ल्ब-ए-इंसां है, “अज्ज़े उनवान है”

 

किस की दस्ते नज़र कासा गरदान है, “अक्ल हैरान है”

 

एक वली ज़ैबे रंगे इरफ़ान है, “वाह क्या शान है”

 

सर झुके हैं यहां मीर-ओ-सुल्तान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

 

हर घड़ी मेहरबान फ़ैज़ जारी रहे, “फ़ैज़ जारी रहे”

 

खाक बोसी पे बाद-ए-बारी रहे, “फ़ैज़ जारी रहे”

 

आलम-ए-कैफ में बज़्म-ए-सारी है, “फ़ैज़ जारी रहे”

 

बेखुदी तेरे मस्तों पे तारी रहे, “फ़ैज़ जारी रहे”

 

फैज़ा बरस्ता रहे तेरे एहसान का, “मरहबा मरहबा”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

तेरे दीवाने हाजिर है सरकार में, “आज दरबार में”

 

सर झुके जनाब-ए-गोहर बार में, “आज दरबार में”

 

बन के साईल तेरी बज़्म-ए-अनवर में, “आज दरबार में”

 

यूसुफ-ए-मिस्र दिल तेरे बाजार में, “आज दरबार में”

 

जश्न है क्या दिल अफरोज़ इरफान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

दर ब-दर मुफ्त की ठोकरे खाये क्यूं, “हाथ फेलाय क्यूं”

 

मांगने कोई अगयार में जाए क्यूं, “हाथ फेलाय क्यूं”

 

उनके नामूस ए गैरत पे हर्फ आए क्यों, “हाथ फेलाय क्यूं”

 

दिल कनाअत की ज़ौ से ना चमकाए क्यूं, “हाथ फेलाय क्यूं”

 

जो नमक ख़्वान रहूँ पीर-ए-पिरान का, “मरहबा मरहबा”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

शाह-ए-जिलां की चौखट सलामत रहे,

“ता क़यामत रहे”

 

नक्श-ए-पा का चमन पुर-करामत रहे, “ता क़यामत रहे”

 

खलअते इज्तेबा जेबे क़ामत रहे, “ता क़यामत रहे”

 

सर पे वलियो का ताज-ए-इमामत रहे, “ता क़यामत रहे”

 

सिलसिला गौस-ए-आजम का फैज़ान का, “ता क़यामत रहे”

 

Aastan Hai Ye Kis Shah E Zeeshan Ka Lyrics

वारिस-ए-खत्म-ए-मुर्सलीन आप हैं, “बिल-यक़ीं आप है”

 

क़सर-ए-ज़हरा का नक़्श-ए-हसीन आप है, “बिल-यक़ीं आप है”

 

दीन-ए-बरहक के मोहि-ओ-मो’इन आप हैं, “बिल-यकिं आप है”

 

बज़्म-ए-इरफ़ान के मसनद नशीन आप हैं, “बिल-यक़ीं आप है”

 

हर वाली तुफ्ल है दबीस्तान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

 

मजहर-ए-ज़ात-ए-रब्बे कदीर आप हैं, “दस्तागिर आप हैं”

 

कसरवां-ए-करम के अमीर आप हैं, “दस्तागिर आप हैं”

 

शाह-ए-बगदाद पिरान-ए-पीर आप हैं, “दस्तागिर आप हैं”

 

इस नसीर-ए-हज़ीन के नसीर आप हैं, “दस्तागिरआप हैं”

 

कोई हमसर नहीं आपकी शान का, “मरहबा मरहबा”

 

 

 

 

Aastaañ Hai Ye Kis Shaahe Zishaan Ka Marhaba Marhaba Qawwali lyrics In Urdu

 

Urdu Me inshaAllah Jald Hi Aa Jayega !

 

Read More
Zameeno Zama Tumhare Liye Lyrics

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.