Aate Rahe Ambiya Kama Qeela Lahum rubaiyat Lyrics

Shayar: Ala Hazrat | Naat e Paak

Hadaaiqe Bakhshish Part 1

Hindi And English Lyrics

रुबाईयात

 

 

आते रहे अम्बिया कमा क़ीला लहुम

वल ख़ातमो ह़क़्क़ोकुम कि खा़तिम हुए तुम

यानी जो हुआ दफ़्तरे तन्ज़ील तमाम

आख़िर में हुई मोह़र कि अकमलतु लकुम

Aate Rahe Ambiya Kama Qeela Lahum

Wal Khaat’mo Haqqokum Ki Khaatim Hue Tum

Yaani Jo Hua Daftar-E-Tanzeel Tamaam

Aakhir Me Hui Mohar Ki Akmaltu Lakum

 

 

शब लिह़या व शारिब है रुख़े रोशन दिन

गेसू व शबे क़द्रो बराते मोमिन

मिज़्गां की सफ़ें चार हैं, दो अब्रू हैं

वल फ़जर् के पहलू में लियालिन अ़सरिन

Shab Lih’yaa Wa Shaarib Hai Rukhe Roshan Din

Gesu Wa Shab-E-Qadro Baraate Momin

Mizga(N) Ki Safe Chaar Hein, Do Abroo Hein

Wal Fajar Ke Pahloo Me liyabin Asrin

 

 

अल्लाह की सर ता ब क़दम शान है यह

इनसा नहीं इन्सान वोह इन्सान हैं यह

कुरआन तो ई़मान बताता है इन्हें

ई़मान यह कहता है मेरी जान हैं यह

Allah Ki Sar-Ta-Ba Qadam Shaan Hai Yeh

Insa Nahi Insaan Woh Insaan Hein Yeh

Kur’aan To Imaan Batata Hai Inhe

Imaan Yeh Kahta Hai Meri Jaan Hein Yeh

 

 

बोसा गहे अस्हाब वोह मेहरे सामी

वोह शानए चप में उस की अ़म्बर फ़ामी

यह तुर्फा कि है काबए जानो दिल में

संगे अस्बद नसीब रुक्ने शामी

Bosa Gahe As’haab Woh Mehre Saami

Woh Shaan-E-Chap Me Uski Amber Faami

Yeh Turfa Ki Hai Kaaba-E-Jaano Dil Me

Sange Asbad Naseem Rukne Shaami

 

 

काबे से अगर तुरबते शह फ़ाज़िल है

क्यूँ बाई त़रफ़ उस के लिये मन्ज़िल है

इस फ़िक्र में जो दिल की त़रफ़ ध्यान गया

समझा कि वोह जिस्म है यह मरक़दे दिल

Kaabe Se Agar Turbat-E-Shah Faazil Hai

Kyon Baai Taraf Us Ke Liye Manzil Hai

Is Fikr Me Jo Dil Ki Taraf Dhyaan Gaya

Samjha Ki Woh Jism Hai Yeh Marqade Dil

 

 

तुम जो चाहो तो क़िस्मत की मुसीबत टल जाए

क्यूंकर कहूं साअ़त से क़ियामत टल जाए

लिल्लाह उठा दो रुख़े रोशन से निक़ाब

मौला मेरी आई हुई शामत टल जाए

Tum Jo Chaho To Qismat Ki Musibat Tal Jaaye

Kyonkar Kahun Saa’at Se Qayaamat Tal Jaaye

Lillah Utha Do Rukhe Roshan Se Niqaab

Moula Meri Aai Hui Shaamat Tal Jaaye

 

 

यां, शुबा शबीह का गुज़रना कैसा !

बे मिस्ल की तिम्साल संवरना कैसा

इन का मुतअ़ल्लिक़ है तरक़्की पे मुदाम

तस्वीर का फिर कहिये उतरना कैसा

Yaan, Shuba Shabeeh Ka Guzrna Kaisa

Be Misl Ki Tismaal Sawarna Kaisa

In Ka Mutalliq Hai Tarqqi Pe Mudaam

Tasveer Ka Fir Kahiye Utrna Kaisa

 

 

यह शह की तवाज़ोअ़ का तक़ाज़ा ही नहीं

तस्वीर खिंचे उन को गवारा ही नहीं

मा’ना हैं यह मानी कि करम क्या माने

खिंचना तो यहां किसी से ठहरा क्या है

Yeh Shah Ki Tawazo’aa Ka Taqaza He Nahi

Tasveer Khiche Un Ko Gawara He Nahi

Maana Hein Yeh Maani Ki Karam Kya Maane

Khichna To Yahan Kisi Se Thahra Kya Hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.