Ali ali ki sada lyrics

 

Ali ali ki jise bhi sada pasand nahin
Namaz ko wo namazi zara pasand nahin

अली अली की जिसे भी सदा पसंद नहीं
नमाज़ को वो नमाज़ी ज़रा पसंद नहीं

 

Wasila panjtan-e-paak ka nahin jisme
Khuda ko aisi koi bhi dua pasand nahin

वसीला पंजतन-ए-पाक का नहीं जिसमें
ख़ुदा को ऐसी कोई भी दुआ पसंद नहीं

 

Ajeeb zahni marz me hain mubtala waaiz
Shifa bhi chahiye khaak e shifa pasand nahin

अजीब ज़हनी मर्ज़ में हैं मुब्तिला वाइज़
शिफ़ा भी चाहिए खाके शिफ़ा पसंद नहीं

 

Ali ali ki jise bhi sada pasand nahin
Namaz ko wo namazi zara pasand nahin

अली अली की जिसे भी सदा पसंद नहीं
नमाज़ को वो नमाज़ी ज़रा पसंद नहीं

 

Hai unke shajre nijis or hasb-o-nasb na paak
Jinhe kalam-e-hadees-e-kisa pasand nahin

हैं उनके शजरे निजिस और हस्ब-ओ-नस्ब ना पाक
जिन्हें कलाम-ए-हदीसे किसा पसंद नहीं

 

Ham ahle haq hain hame achhi tarha hai maloom
Pasand kya hai payamber ko kya pasand nahin

हम अहले हक़ हैं हमें अच्छी तरह है मालूम
पसंद क्या है पयम्बर को क्या पसंद नहीं

 

Ali ali ki jise bhi sada pasand nahin
Namaz ko wo namazi zara pasand nahin

अली अली की जिसे भी सदा पसंद नहीं
नमाज़ को वो नमाज़ी ज़रा पसंद नहीं

 

Ali ke dar ke gada hain hamza aur sohail
Har ik se maangna hamko zara pasand nahi

अली के दर के गदा हैं हमज़ा और सोहेल
हर इक से मांगना हमको ज़रा पसंद नहीं

 

Ali ali ki jise bhi sada pasand nahin
Namaz ko wo namazi zara pasand nahin

अली अली की जिसे भी सदा पसंद नहीं
नमाज़ को वो नमाज़ी ज़रा पसंद नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.