Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo Lyrics

 

 

ग़म के मारो चलो बे-सहारो चलो | Manqabat Lyrics In Hindi
By sufilryics / Leave a Comment / Manqabat Ala Hazrat Lyrics
ग़म के मारो चलो बे-सहारो चलो | Manqabat Lyrics In Hindi

Manqabat Khwan: Muhammad Ali Faizi

 

ग़म के मारो चलो बे-सहारो चलो
बे-कसों का सहारा बरेली में है
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo
Be-Kason Ka Sahara Bareilly Mein Hai

 

एक आ़लम मुनव्वर है जिस ज़ात से
हां वही माह पारा बरेली में है
ग़म के मारो चलो बे-सहारो चलो
Ek Aalam Munawwar Hai Jis Zaat Se
Han Wahi Maah Paara Bareilly Mein Hai
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo

 

क़दरी आस्मां के दरख़्शां का मै
आला ह़ज़रत के नामी गिरामी पिसर
जल्वा-ए-ग़ौस आता था जिसमें नज़र
वो रज़ा का दुलारा बरेली में है
ग़म के मारो चलो बे-सहारो चलो

Qadri Aasma.n Ke Darakhshan.n Ka Mein
Aala Hazrat Ke Naami Girami Pisar
Jalwa-e-Ghous Aata Tha Jisme Nazar
Wo Raza Ka Dulara Bareilly Mein Hai
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo

 

डूबने वालो जुल्मत के तूफ़ान में
मुफ़्ती-ए-आज़म-ए-हिन्द का नाम लो
नूर वाला बनायेंगे नूरी मियां
नूर का इक मिनारा बरेली में है
ग़म के मारो चलो बे-सहारो चलो

Doobne Walo Julmat Ke Toofaan Mein
Mufti-e-Aazm-e-Hind Ka Naam Lo
Noor Wala Batayenge Noori Miyan
Noor Ka Ik Minara Bareilly Mein Hai
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo

 

जिससे है अहले सुन्नत की खेती हरी
जिसको कहते हैं अख़्तर रज़ा अज़हरी
बारिस-ए-इ़ल्मे अहमद रज़ा जो बना
फ़खरे अज़हर हमारा बरेली में है
ग़म के मारोंं चलो बे-सहारो चलो

Jisse Hai Ahle Sunnat Ki Kheti Hari
Jisko Kahte Hain Akhtar Raza Azhari
Baaris-e-Ilme Ahmad Raza Jo Bana
Fakhre Azhar Hamara Bareilly Main Hai
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo

 

मुफ़्ती-ए-आज़मे हिन्द के जां नशी
जिनका सानी ज़माने में मिलता नहीं
चांद की तलअ़तें जिस पे कुर्बान हों
ऐसा अख़्तर हमारा बरेली में है
ग़म के मारों चलो बे-सहारो चलो

Mufti-e-Aazm-e-Hind Ke Jaa.n Nashi
Jinka Saani Zamane Me Milta Nahin
Chand Ki Tal’atein Jis Pe Kurban Hon
Aisa Akhtar Hamara Bareilly Mein Hai
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo

 

जल्वागर हैं जहाँ शाह अहमद रज़ा
मुफ़तिये आज़मे हिन्द, अख़्तर रज़ा
गौर से देखिये तो नज़र आयेगा
चांद, सूरज, सितारा बरेली में है
ग़म के मारों चलो बे-सहारो चलो

Jalwagar Hain Jahan Shaah Ahmad Raza
Mufti-e-Aazm-e-Hind, Akhtar Raza
Gour Se Dekhiye To Nazar Aayega
Chand, Sooraj, Sitara Bareilly Mein Hai
Gham Ke Maro Chalo Be-Saharo Chalo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.