Mere Nabi Sa Koi Saahib e Kamaal Nahi Lyrics

 

 

Mere Nabi Sa Koi Saahib e Kamaal Nahi
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Baghair Ishq e Muhammad Khuda Nahin Milta
Koi Maqaam Koi Martaba Nahin Milta
Jahan Me Aaye Hein Yun To Tamaam Paighaber
Magar Janab e Shahe Ambiya Nahin Milta
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Quraan Se Aya.n Hai Haqiqat Rasool Ki
Karne Ko Noor Aata Hai Ziyarat Rasool Ki
Mashgool The Quraa.n Ki Tilawat Me Khud Rasool
Quraan Kar Raha Tha Tilawat Rasool Ki
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Jo Kaam Aata Ho Us Rahnuma Ki Baat Karo
Bhatak Rahe Ho To Shaahe Khuda Ki Baat Karo
Bhala Charagh Se Kab Roushani Juda Hogi
Khuda Ke Saath Rasool e Khuda Ki Baat Karo
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Tanveer e Kibriya Hai Dayare Rasool Me
Jalwon Ka Silsila Hai Dayare Rasool Me
Lazim Hai Ahtraam Ki Nazron Se Dekhna
Kya Jaane Koun Kya Hai Dayare Rasool Me
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Gulab, Bela, Chameli Na Mushk Amber Se
Mahak Raha Hai Zamana Gul e Payamber Se
Bareilly, Kaliyar o Ajmer, Karbala Wa Najaf
Tamaam Nahreyn Hain Nikli Isi Samandar Se
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Laat o Huwal Manane Ka Charcha Tha Jagah-Jagah
Sara Nizaam e Dahar Tha Us Dam Bujha-Bujha
Ranaeeye Jahan Ko Hai Sadqa Rasool Ka
Har Ped Ye Kah Raha Hai Hokar Hara Bhara
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Na Maal o Zar Na Khazina Talash Karta Hai
Ghulam Raahe Madina Talash Karta Hai
Khuda Ne Aib Kahan Mustafa Me Rakkha Hai
Jo Aake Najdi, Bahawi Talash Karta Hai
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

Hai Sheesh Ka Idris o Zakariya Ka Muqaddar
Ye Nooh Bhi, Ye Loot Bhi Kahte Hein Barabar
Be-misl Be-Nazeer Hai Allah Ka Mahboob
Kahta Hai Jhoom-Jhoom Ke Ye Har Ek Payamber
Ye Wo Rasool Hein Jinki Koi Misaal Nahin

 

 

मेरे नबी सा कोई साहिब-ए-कमाल नहीं
ये वो रसूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

बग़ैर इश्क़-ए-मुह़म्मद ख़ुदा नहीं मिलता
कोई मक़ाम, कोई मर्तबा नहीं मिलता
जहां में आए हैं यूं तो तमाम पैग़म्बर
मगर जनाब ए शहे अंबिया नहीं मिलता
ये वो रसूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

क़ुरआन से अयां है हक़ीक़त रसूल की
करने को नूर आता है ज़ियारत रसूल की
मशगूल थे क़ुरआन की तिलावत में खुद रसूल
क़ुरआन कर रहा था तिलावत रसूल की
ये वो रसूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

जो काम आता हो उस रहनुमा की बात करो
भटक रहे हो तो शाहे ख़ुदा की बात करो
भला चराग़ से कब रौशनी जुदा होगी
ख़ुदा के साथ रसूल ए ख़ुदा की बात करो
ये वो रसूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

तनवीर-ए-किबरिया है दयार-ए-रसूल में
जल्वों का सिलसिला है दयार-ए-रसूल में
लाज़िम है एहतराम की नज़रों से देखना
क्या जाने कौन क्या है दयार ए रसूल में
ये वो रसूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

गुलाब, बेला, चमेली अंबर से
महक रहा है ज़माना गुल-ए-से
बरेली, कलियर-ओ-अजमेर, कर्बला वा नजफ़
तमाम नहरें हैं निकली इसी समन्दर से
ये वो रसूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

लात-ओ-हुवल मनाने का चर्चा था जगत जगह
सारा निज़ाम ए दहर था उस दम बुझा-बुझा
रानाई ए जहां को है सदक़ा रसूल का
हर पेड़ ये कह रहा है होकर हरा-भरा
ये वो रस़ूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

ना माल-ओ-ज़र ना खज़ीना तलाश करता है
ग़ुलाम राहे मदीना तलाश करता है
ख़ुदा ने ऐब कहां मुस्तफ़ा में रक्खा है
जो आके नज्दी बहावी तलाश करता है
ये वो रस़ूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

 

है शीश का, इदरीस ओ ज़करिया का मुक़द्दर
ये नूह भी, ये लूत भी कहते हैं बरबार
बे-मिस्ल, बे-नज़ीर हैं अल्लाह का महबूब
कहता है झुम-झूम के ये हर एक पयम्बर
ये वो रस़ूल हैं जिनकी कोई मिसाल नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.