Pahuchoon Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai Lyrics

 

hain mere khayaaloñ mein wo ehsaas ki soorat
maiñ bhool jaauñ unko ye mumkin hi nahin hai,

dil sun ke unka naam dhadakata hai adab se
haalaañ ke unheñ aañkh se dekha bhi nahiñ hai.

Pahuchoon Dar-e-Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

Yeh Unki Raza Hai Mujhe Bhejeñ Mujhe Rokeiñ,
Waapas Main Nahi Aauñ Ga Socha To Yahi Hai.

Pahuchoon Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

 

Hain Gumbad E Khazra Ke Siwa aur Bhi Jalwe
Aañkhoñ Ke Liye Khaas Nazaara To Yahi Hai.

Pohuchoon Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

 

Izhar e Gham e Hijr Ki Kya Shakl Nikaalooñ,
Rone Ki Bhi Taaqat Nahin Rona To Yahi Hai.

Pohuchoon Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

 

Yaad Unki Rahe Dil Mein, Jamaal Unka Nazar Mein,
Naam Unka Zabaañ Per Rahe Achchha To Yehi Hai.

Pohuchoon Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

 

Ik Khaas Mahek Aane Lagi Mouj E Hawaa Mein,
Aasar Bataate Hain Madina To Yahi Hai.

Pahuchu Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

 

Har Saans Se Aati Ho Sada Salle Ala Ki,
Hum Lakh Jiyeiñ, Asl Meiñ Jeena To Yehi Hai.

Pahuchu Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamanna To Yahi Hai.

 

Taiba Mein Huñ Sab Kuch Mere Daaman Meiñ Hai “Aasi”
Duniya Ka Karooñ Kya? Meri Duniya To Yehi Hai.

Pohuchoon Dare Sarkar Pe Chaaha To Yahi Hai,
Aage Meri Taqdeer Hai, Tamana To Yahi Hai.

 

पहुंचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है लिरिक्स

हैं मेरे ख़यालों में वो एहसास की सूरत
मैं भूल जाऊं उनको ये मुमकिन ही नहीं है,
दिल सुनके उनका नाम धड़कता है अदब से
हालांकि उन्हें आप से देखा भी नहीं है!

पहुंचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तक़दीर है, तमन्ना तो यही है।

यह उनकी रज़ा है मुझे भेजें मुझे रोकें
वापस मैं नहीं आऊंगा सोचा तो यही है

पहुंचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तक़दीर है तमन्ना तो यही है।

 

हैं गुंबदे ख़ज़रा के सिवा और भी जलवे
आंखों के लिए ख़ास नज़ारा तो यही है।

पहुचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तक़दीर है तमन्ना तो यही है।

 

इज़हार ए ग़म ए हिज्र क्या शक्ल निकालूं?
रोने की भी ताक़त नहीं, रोना तो यही है।

पहुचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तकदीर है तमन्ना तो यही है।

 

याद उनकी रहे दिल में, जमाल उनका नज़र में
नाम उनका ज़बां पर रहे, अच्छा तो यही है।

पहुचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तकदीर है तमन्ना तो यही है।

 

इक ख़ास महक आने लगी मौज ए हवा में !
आसार बताते हैं, मदीना तो यही है।

पहुचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तकदीर है तमन्ना तो यही है।

 

हर सांस से आती हो सदा सल्ले अ़ला की
हम लाख जिएं, अस्ल में जीना तो यही है।

पहुचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तकदीर है तमन्ना तो यही है।

 

तैबा में हूं सब कुछ मेरे दामन में है “आसी”
दुनिया का करूं क्या, मेरी दुनिया तो यही है।

पहुचूं दरे सरकार पे चाहा तो यही है
आगे मेरी तकदीर है तमन्ना तो यही है।

नातख़्वां – ज़ोहेब अशरफ़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.