Sahara chahiye sarkar Naat Lyrics

Sahara chahiye sarkar Naat Lyrics

 

Sahara chahiye sarkar Naat Lyrics

Mere aaqa madine bula lijiye
Mere aaqa madine bula lijiye

 

Sahara chahiye sarkar zindagi ke liye…
Tadap raha hoon madine ki haazri ke liye..

 

Taiba ke jaany wale..Jaa kr bary adab se..
Mera bhi qisaa e gham kehna shah-E-arab se..

Kehna ke shah-e- aalam Ek ranjo gham ka mara..
Dono jahan mein jis ka hain, aap hee sahara..
Haalat e pur alam se is dam guzar raha hai
Or kamptey labon se faryaad kr raha hai..

 

Paaye gunaah apna hai dosh par uthaye
Koi nahi hai aisa jo pochhne ko aaye

 

Bhoola hua musafir manzil ko dhondta hai.
Taarikyon ko maah-e-kamil ko dhondta hai..
Seene mein hai andhera..Dil hai shiyaah khana
Ye hai meri kahani sarkaar ko sunana..

 

Kehna mere nabi se maheroom hoo khushi se..
Kehna mere nabi se maheroom hoo khushi se..

 

Sarwar qabr-e-gham hai.. ashkon se ankh num hai…
Paamal-e-zindgi hoo sarkar ummati hoo..
Ummat k rehnmao kuch arz-e-haal sun lo..
faryaad kr raha ho..main dil figar kb se..
Mera bhi qissa-e-ghum kehna mery nabi se…

 

Hazoor aisa koi intezam ho jaye
Salam ke liye hazir ghulaam ho jaye

 

Sahara chahiye sarkar zindagi k liye
Tadap raha hoon madine ki haazri k liye

 

Mera dil tarap raha mera jal raha hai seena
Ke dawa wahi mile gi mujhe le chalo madina

 

Nahi maal-o-zar to kya hai..Main gareeb hoo yahi na
Mere ishq mujh ko le chal..Tuhi janib-e-madina..

 

Aaqa na toot jaye ye dil ka aabghina
Ab ke baras bhi maula reh jaun main kahin na

 

Dil ro raha hai jin ka.. aansu chhalak rahe hain
Un aashqon ka sadqa.. bolwaeye madina

 

Mere aaaqa madine bula lijiye

 

Madiny jaaon, phir aaon, dobara phir jaaon
Ye zinagi meri yunhi tamam ho jaye

 

Sahara chahiye sarkar zindagi k liye…
Tadap raha hoon madine ki haazri k liye

 

Ae aazeem-e-madina.. ja kr nabi se kehna…
Sody humen alam se.. ab jal raha hai seena..

 

Kehna ke badh rahi, ab dil ki iztrabi..
Qadmo se door hoo mai, qismat ki hai khrabi

 

Kehna ke dil me mere arman bhare huye hain
Kehna k hasrtoon ke nashtar chobhe huye hain

 

Hai aarzo ye dil ki main bhi madina jaaun
Sultan-e-do jahan ko, Daagh-e- jigar dikhaun
Kaato hazar chakar, tayyaba ki har gali ke
Yunhi guzaar do aayam zindgi ke

 

Pholon pe jaa.n nisaron.. kanton pe dil ko waaron..
Zarron ko doon salami.. dar ki karon ghulami..
Dewaro dar ko choomun.. chokhat pe sar ko rakh dun

 

Rouze ko dekh kar main, rota rahun barabar
Aalam ke dil mein hai ye, hasrat na jaaney kab se

 

hum sab ke hai dil mein hasrat na jaaney kab se
Mera bhi qissa e gham kehna shah-e-arab se

 

Sahara chahiye sarkar zindagi k liye
Tadap raha hoon madine ki haazri k liye

 

Ek roz ho ga jaana.. sarkar ki gali mein
Ho ga wahi thikana.. sarkar ki gali mein

 

Dil mein nabi ki yaaden, lab par nabi ki naaten..
Jana to aise jana, sarkar ki gali me

 

Ya mustafa khudara.. do izn haazri ka
Kr lo nazara aakr.. main ap ki gali ka

 

Ek baar to dikha do ramzan mein madina
Is bar to dikha do ramzan mein madina
Aaqa humen dikha do ramzan me madina
Beshak bana lo aaqa mehman do ghadi ka

 

Naseeb walo mein mera bhi naam ho jaye
Jo zindgi ki madine mein shaam ho jaye

 

Sahara chahiye sarkar zindagi k liye…
Tadap raha hoon madine ki haazri k liye

 

सहारा चाहिए सरकार जिन्दगी के लिए Lyrics

 

मेरे आक़ा मदीने बुला लीजिए
मेरे आक़ा मदीने बुला लीजिए

 

सहारा चाहिए सरकार ज़िन्दगी के लिए
तड़प रहा हूं मदीने की हाज़री के लिए

 

तैबा के जाने वाले, जाकर बड़े अदब से
मेरा भी क़िस्सा ए ग़म कहना शाह ए अरब से

कहना के! शाह ए आलम, एक रंज ओ ग़म का मारा
दोनों जहां में जिसका, हैं आप ही सहारा
हालात ए पुर अलम से इस दम गुज़र रहा है
और कांपते लबों से फ़रियाद कर रहा है

 

पाए गुनाह अपना है दोश पर उठाए
कोई नहीं है ऐसा जो पूछने को आए

 

भूला हुआ मुसाफ़िर मन्ज़िल को ढूंढता है
तारीकियों में माह ए कामिल को ढूंढता है
सीने में है अंधेरा दिल है शियाह खाना
ये है मेरी कहानी सरकार को सुनाना

 

कहना मेरे नबी से महरूम हूं खुशी से
कहना मेरे नबी से महरूम हूं खुशी से

 

सरवर क़ब्र ए ग़म है, अश्कों से आंख नम है
पामाल ए ज़िन्दगी हूं सरकार उम्मती हूं
उम्मत के रहनुमा हो कुछ अर्ज़-ए-हाल सुन लो
फ़रियाद कर रहा हूं मैं, दिल फ़िगार कब से
मेरा भी क़िस्सा ए ग़म कहना मेरे नबी से

 

हुज़ूर ऐसा कोई इन्तिज़ाम हो जाए
सलाम के लिए हाज़िर ग़ुलाम हो जा

 

सहारा चाहिए सरकार ज़िन्दगी के लिए
तड़प रहा हूं मदीने की हाज़री के लिए

मेरा दिल तड़प रहा है मेरा जल रहा है सीना
के दवा वहीं मिलेगी मुझे ले चलो मदीना

 

नहीं माल ओ ज़र तो क्या है, मैं गरीब हूं तू क्या है
मेरे इश्क़ मुझको ले चल, तू ही जानिबे मदीना

आक़ा न टूट जाए ये दिल का आबगीना
अब के बरस भी मौला रह जाऊं मैं कहीं ना

दिल रो रहा है जिनका, आंसू छलक रहे हैं
उन अश्क़ों का सदक़ा, बुलवाईये मदीना

 

मेरे आक़ा मदीने बुला लीजिए

 

मदीने जाऊं, फिर आऊं, दुबारा फिर जाऊं
ये ज़िन्दगी मेरी यूं ही तमाम हो जाए

 

सहारा चाहिए सरकार ज़िन्दगी के लिए
तड़प रहा हूं मदीने की हाज़री के लिए

 

ऐ आज़ीम ए मदीना, जाकर नबी से कहना
शोले हमें आलम से अब जल रहा है सीना

कहना की बढ़ रही है अब दिल की इज़्तिराबी
क़दमों से दूर हूं मैं, क़िस्मत की है खराबी

कहना के दिल में मेरे अरमां भरे हुए हैं
कहना के हसरतों के नश्तर चुभे हुए हैं

 

है आरज़ू ये दिल की मैं भी मदीना जाऊं
सुल्ताने दो जहां को दाग़े जिगर दिखाऊं
काटूं हज़ार चक्कर, तैबा की हर गली के
यूं ही गुज़ार दूं आयाम ज़िन्दगी के

 

फूलों पे जां निसारुं कांटों पे दिल को बारुं
ज़र्रो को दूं सलामी, दर की करूं ग़ुलामी
दीवार ओ दर को चूमूं, चौखट पे सर को रख दूं

रौज़े को देखकर मैं रोता रहूं बराबर
आलम के दिल में है ये, हसरत ना जाने कब से

हम सबके है दिल में हसरत ना जाने कब से
मेरा भी क़िस्सा ए ग़म कहना शहे अरब से

 

सहारा चाहिए सरकार ज़िन्दगी के लिए
तड़प रहा हूं मदीने की हाज़री के लिए

 

एक रोज़ होगा जाना, सरकार की गली में
होगा वहीं ठिकाना सरकार की गली में

 

दिल में नबी की यादें लव पर नबी की नातें
जाना तो ऐसे जाना, सरकार की गली में

या मुस्तफ़ा ख़ुदारा, दो इज़्न हाज़िरी का
कर लूं नज़ारा आकर मैं आपकी गली का

 

एक बार तो दिखा दो रमज़ान में मदीना
इस बार तो रमज़ान में मदीना
आक़ा हमें दिखा दो रमज़ान में मदीना
बेशक़ बना लो आक़ा मेहमान दो घड़ी का

 

नसीब वालों में मेरा भी नाम हो जाए
जो ज़िन्दगी की मदीने में शाम हो जाए

सहारा चाहिए सरकार ज़िन्दगी के लिए
तड़प रहा हूं मदीने की हाज़री के लिए

 

बुला लो ना ..
बुला लो ना ..

आक़ा आक़ा आक़ा

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.