Shahr-e-Tayba Ka Wo Bazar Bada Pyara Hai Lyrics

Shahr-e-Tayba Ka Wo Bazar Bada Pyara Hai Lyrics

 

 

Shehr-E-Tayba Ka Wo Baazaar Bada Pyaara Hai
Ham Gulaamon Ka Khareedaar Bada Pyaara Hai

Roz Kehti Hai Madine Men Utar Kar Jannat
Ya Nabi ! Aap Ka Darbaar Bada Pyaara Hai

Dekh Kar Kehte The Siddiq Ko Mere Aaqa
Ai Sahaaba ! Ye Mera Yaar Bada Pyaara Hai

Yun To Izhaar-E-Mohabbat Hai Kiya Kitno Ne
Ai Bilaal ! Aap Ka Izhaar Bada Pyaara Hai

Un Ke Gustaakh Ko Maara Hai Chhapi Hai Ye Khabar
Waaqi’ee Aaj Ka Akhbaar Bada Pyaara Hai

Bandhne Waale Hain Mohabbat Ke ‘Amaamen Sar Par
Aaj Ka Mauqa’-E-Dastaar Bada Pyaara Hai

Ai Gazaali ! Jo Chhupaaega Hamen Mahshar Men
Wo Wasi’ Daaman-E-Sarkaar Bada Pyaara Hai

Poet:
Gulam Gaus Gazali

Naat-Khwaan:
Gulam Gaus Gazali

 

 

Shahr-e-Tayba Ka Wo Bazar Bada Pyara Hai | Shehr-e-Taiba Ka Wo Bazar Bada Pyara Hai

 

शहर-ए-तयबा का वो बाज़ार बड़ा प्यारा है
हम ग़ुलामों का ख़रीदार बड़ा प्यारा है

रोज़ कहती है मदीने में उतर के जन्नत
या नबी ! आप का दरबार बड़ा प्यारा है

देख कर कहते थे सिद्दीक़ को मेरे आक़ा
ऐ सहाबा ! ये मेरा यार बड़ा प्यारा है

यूँ तो इज़हार-ए-मोहब्बत है किया कितनो ने
ऐ बिलाल ! आप का इज़हार बड़ा प्यारा है

उन के गुस्ताख़ को मारा है, छपी है ये ख़बर
वाक़ि’ई आज का अख़बार बड़ा प्यारा है

बँधने वाले हैं मोहब्बत के ‘अमामें सर पर
आज का मौक़ा’-ए-दस्तार बड़ा प्यारा है

ऐ ग़ज़ाली ! जो छुपाएगा हमें महशर में
वो वसी’ दामन-ए-सरकार बड़ा प्यारा है

शायर:
ग़ुलाम ग़ौस ग़ज़ाली

ना’त-ख़्वाँ:
ग़ुलाम ग़ौस ग़ज़ाली

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.