Soye hain woh Bazahir Dil unka jaagta hai naat lyrics

Soye hain woh Bazahir Dil unka jaagta hai naat lyrics

Shayar:Ajmal Sultanpuri | Naat e Paak

Soye Hain Wah Bazahir Dil Unka Jaagta Hai
Talwe Se Unke Kudsi Peshani Mal Raha Hai

 

Aankhe Khuli To Poochha Jibreel Kahiye Kya Hai
Jibreel Bole Aaqa Khaliq Bula Raha Hai

 

Sarkar Hukm Ho To Haazir Karu(N) Sawaari
Saj Kar Buraqe Anwar Darwaze Per Khada Hai

 

Nalainay Paak Pahne Nikle Haram Se Bahar
Dekho To Kudsiyon Ka Mela Laga Hua Hai

 

Taa-Zeem Se Farishte Bole Salam Alay-Ka
Sal-Lay Ala Ka Nagma Har Samt Goonjta Hai

 

Ummat Ko Yaad Karke Aaqa Hue Ravana
Aur Pahunche Bai-Tay Maqdis Jo Khana E Khuda Hai

 

Dekha Kul Ambiya Hain Moujood Ba Jama-At
Baad Az Salam Bole Ab Intijaar Kya Hai

Sarkar Ne Imamat Farmai Ambiya Ki
Har Muqtadi Se Afzal Rutba Imaam Ka Hai

Fir Ho-Gay Muhammad Su-A Falak Rawana
Ab Ho Kisi Bhi Shae Jumbish Majal Kya Hai

Jannat Saji Hue Hai Aflaak Hai Muzai-Yan
Raaste Me Qudsiyo(N) Ka Pahra Laga Hua Hai

Jibreel Ne Bhi Aakhir Sidra Se Saath Chhoda
Bole Ki Ya Muhammad Ye Meri Muntaha Hai

Raf Raf Mai Baith Kar Ke Aage Baday Muhammad
Arshe Bari(N) Ko Dekha Qadmo Ko Chomta Hai

Wa-Rafta Bar Sma-At Awaze Udnu Minni
Mehmaan Mustafa Hain Aur Mezba(N) Khuda Hai

Ye Wasl Do Kama(N) Ka Ya Isse Bhi Kahi(N) Kam
Qurbe Khuda Ki Manzil Merajay Mustafa Hai

Meraaj Me Nabi Ko Allah Ne Bula Kar
Sab Kuchh Dikha Diya Hai Sab Kuchh Bata Diya Hai

 

Soye hain woh Bazahir Dil unka jaagta hai naat lyrics

सोए हैं वह बज़ाहिर दिल उनका जागता है
तलवे से उनके क़ुदसी पेशानी मल रहा है

 

आंखें खुलीं तो पूछा जिबरील कहिये क्या है
जिबरील बोले आक़ा ख़ालिक़ बुला रहा है

 

सरकार हूक्म हो तो हाज़िर करूं सवारी
सज कर बुराक़े अनवर दरवाज़े पर खड़ा है

नालैने पाक पहने निकले हरम से बाहर
देखो तो क़ुदसियों का मेला लगा हुआ है

तअ़ज़ीम से फ़रिश्ते बोले सलाम अलै-का
सल्ले अल़ा का नग़मा हर सम्त गूंजता है

उम्मत को याद करके आक़ा हुए रवाना
और पहुंचे बैते मक़दिस जो खा़नए ख़ुदा है

देखा कुल अम्बिया हैं मौजूद बा-जमाअ़त
बाद अज़ सलाम बोले अब इंतजार क्या है

सरकार ने इमामत फ़रमाई अम्बिया की
हर मुक़तदी से अफ़ज़ल रुतबा इमाम का है

 

फिर हो गए मुहम्मद सूए फ़लक रवाना
अब हो किसी भी शय जुम्बिश मजाल क्या है

 

जन्नत सजी हुई है अफ़लाक है मुज़य्यन
रास्ते में क़ुदसियों का पहरा लगा हुआ है

जिबरील ने भी आख़िर सिदरा से साथ छोड़ा
बोले कि या मुहम्मद यह मेरी मुन्तहा है

रफ़ रफ़ में बैठ कर के आगे बढे़ मुहम्मद
अर्शे बरीं को देखा क़दमों को चूमता है

 

वा-रफ़्ता बर समाअ़त आव़ाज़े उद्नु मिन्नी
मेहमान मुस्तफ़ा हैं और मेज़बाँ ख़ुदा है

ये वस्ल दो कमां का या इससे भी कहीं कम
क़ुर्बे खुदा की मन्ज़िल मेराजे मुस्तफ़ा है

मेरअ़्राज में नबी को अल्लाह ने बुलाकर
सब कुछ दिखा दिया है सब कुछ बता दिया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.