Yahi Humne Samjha Yahi Hai Padha Muhammad Sa Koi Nahi Naat Sharif Lyrics

 

Yahi Humne Samjha Yahi He Padha

Yahi Humne Samjha Yahi He Padha
Muhammad Sa Koi Nahi
Hai Adam Ke Ankhon Ka Dekha Hua
Mohammad ﷺ Sa Koi Nahi

 

Zameen Apki Asman Apka He
Mere Mustafa Do Jahan Apka He
Sitaron Ka Yeh Karwan Apka He
Chaman Apka Gulsitan Apka He

Zameeñ ne Falak Se Yeh Jhuk Kar Kaha
Muhammad Sa Koi Nahi

Hai Adam Ke Ankhon Ka Dekha Hua
Mohammad ﷺ Sa Koi Nahin…

 

Dahan Khoobsurat Zaqan Khoobsurat
Mere Mustafa Ka Badan Khoobsurat
Hain Jisme Hussain Aur Hasan Khoobsurat
Woh Mere Nabi Ka Chaman Khoobsurat

Hai Be Misl Noori Gharana Tera
Muhammad Sa Koi Nahi

Hai Adam Ke Ankhon Ka Dekha Hua
Mohammad ﷺ Sa Koi Nahin…

 

Shah e Ambiya Ka Falak Par Woh Jana
Huyi Mehv e Sakit Faza e Zamana
Woh Asra Ki Shab Ka Tha Manzar Suhana
Imam e Rusul Ka Musalle Pe Ana

Sabhi Muqtadi Woh Huye Muqtada
Muhammad Sa Koi Nahi

Hai Adam Ke Ankhon Ka Dekha Hua
Mohammad ﷺ Sa Koi Nahin…

 

Agar Mere Aaqa Inayat Karenge
Haseeñ Sab Se Apni Ibadat Karenge
Rukh e Mustafa Ki Tilawat Karenge
Tilawat Baraye Ziyarat Karenge

Asad Ki Zaban Par Ho Bas Yeh Sada
Muhammad Sa Koi Nahi

Hai Adam Ke Ankhon Ka Dekha Hua
Mohammad ﷺ Sa Koi Nahin…

Yehi Humne Samjha Yehi Hai Padha
Muhammad Sa Koi Nahi.

Naat khwan: Asad Iqbal
Kalam: Asad Iqbal

 

यही हमने समझा यही है पढ़ा

यही हमने समझा यही है पढ़ा
मोहम्मद ﷺ सा कोई नहीं,
है आदम की आंखों का देखा हुआ
मोहम्मद ﷺ सा कोई नहीं।

 

ज़मीं आपकी आसमां आपका है
मेरे मुस्तफा दो जहां आपका है
सितारों का यह कारवां आपका है
चमन आपका गुलसितां आपका है

ज़मीं ने फ़लक से यह झुक कर कहा
मोहम्मद ﷺ सा कोई नहीं।

है आदम की आंखों का देखा हुआ
मुहम्मद ﷺ सा कोई नहीं..

 

दहन ख़ूबसूरत ज़कन ख़ूबसूरत
मेरे मुस्तुफा का बदन खूबसूरत
हैं जिसमें हुसैन और हसन ख़ूबसूरत
वह मेरे नबी का चमन खूबसूरत

है बेमिसाल नूरी घरना तेरा
मोहम्मद ﷺ सा कोई नहीं

है आदम की आंखों का देखा हुआ
मुहम्मद ﷺ सा कोई नहीं..

 

शाहे अंबिया का फ़लक पर वह जाना
हुई महव ए साकित फज़ा ए ज़माना
वह असरा की शब का था मंज़र सुहाना
इमाम ए रुसुल का मुसल्ले पे आना

सभी मुक़्तदी वह हुए मुक़्तदा
मोहम्मद ﷺ सा कोई नहीं

है आदम की आंखों का देखा हुआ
मुहम्मद ﷺ सा कोई नहीं..

 

अगर मेरे आक़ा इनायत करेंगे
हसीं सब से अपनी इबादत करेंगे
रुख़ ए मुस्तफा की तिलावत करेंगे
तिलावत बराए ज़ियारत करेंगे

असद की ज़ुबां पर हो बस ये सदा
मोहम्मद सा कोई नहीं

है आदम की आंखों का देखा हुआ
मुहम्मद ﷺ सा कोई नहीं..

 

नातख्वां: असद इक़बाल
कलाम: असद इक़बाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.