Raah Purkhar Hai Kya Hona Hai Naat Lyrics

 

Raah Purkhar Hai Kya Hona Hai Naat Lyrics

राह पुरख़ार है क्या होना है

Shayar: Ala Hazrat | Naat e Paak

Naat Khwan: Owais Raza Qadri, Milad Raza, Qari Khalil Attari, Ashfaq Madni,

Hadaaiqe Bakhshish Part 1

राह पुरख़ार है क्या होना है

पाउं अफ़्गार है क्या होना है

Raah Purkhar Hai Kya Hona Hai

Paau(n) Afgaar Hai Kya Hona Hai

 

खुश्क है ख़ून कि दुश्मन ज़ालिम

सख़्त ख़ूंख़ार है क्या होना है

Khushk Hai Khoon Ki Dushman Zalim

Sakht KhoonKhaar Hai Kya Hon Hai

 

हमको बिद कर वही करना है जिससे

दोस्त बेज़ार है क्या होना है

Hamko Bid Kar Wahi Karna Hai Jis Se

Dost Bezaar Hai Kya Hona Hai

 

तन की अब कौन ख़बर ले हय ! हय!

दिल का आज़ार है क्या होना है

Tan Ki Ab Koun Khabar Le Hay ! Hay!

Dil Ka Aazaar Hai Kya HOna Hai

 

मीठे शरवत दे मसीह़ा जब भी

ज़िद है इन्कार है क्या होना है

Meethey Sharbat De Maseeha Jab Bhi

Zid Hai Inkaar Hai Kya Hona Hai

 

दिल, कि तीमार हमारा करता है

आप बीमार है क्या होना है

Dil, Ki Teemar Hamara Karta Hai

Aap Beemar Hai Kya Hona Hai

 

पर कटे तंग क़फ़स और बुलबुल

नौ गिरफ्तार है क्या होना है

Par Kate Tang Qafas Aur Bulbule

Nou Giraftaar Hai Kya Hona Hai

 

छुप के लोगो से किये जिस के गुनाह

वोह ख़बरदार है क्या होना है

Chhup Ke Logo Se Kiye Jis Ke Gunaah

Woh Khabardaar Hai Kya Hona Hai

 

अरे ओ मुजरिमें बे परवा देख

सर पे तलवार है क्या होना है

Arey O Mujrim-e- Be Parwa Dekh

Sar pe Talwaar Hai Kya Hona Hai

 

तेरे बीमार को मेरे ई़सा

ग़श लगातार है क्या होना है

Tere Beemar Ko Mere Eesa

Ghash Lagataar Hai Kya Hona Hai

 

Raah Purkhar Hai Kya Hona Hai Naat Lyrics

 

नफ़्से पुरज़ोर का वोह ज़ोर और दिल

ज़ेर है ज़ार है क्या होना है

Nafs e Purzor Ka Woh Zor Aur Dil

Zer Hai Zaar Hai Kya Hona Hai

 

काम ज़िन्दां के किये और हमें

शौक़े गुलज़ार है क्या होना है

Kaam Zinda Ke Kiye Aur Hame(N)

Shouk e Guzaar Hai Kya Hona Hai

 

हाए रे नींद मुसाफ़िर तेरी

कूच तय्यार है क्या होना है

Haaye Re Neend Musafir Teri

Kooch Tayyaar Hai Kya Hona Hai

 

दूर जाना है रहा दिन थोड़ा

राह दुशवार है क्या होना है

Door Jaana Hai Raha Din Thoda

Raah Dushwaar Hai Kya Hona Hai

 

घर भी जाना है मुसाफ़िर कि नहीं

मत पे क्या मार है क्या होना है

Ghar Bhi Jana Hai Musafir Ki Nahi

Mat Pe Kya Maar Hai Kya Hona Hai

 

जान हलकान हुई जाती है

बार सा बार है क्या होना है

Jaan Halkaan Hui Jaati Hai

Baar Sa Baar Hai Kya Hona Hai

 

पार जाना है नहीं मिलती नाउ

ज़ोर पर धार है क्या होना है

Paar Jana Hai Nahi Milti Naau

Zor Par Dhaar Hai Kya Hona Hai

 

राह तो तैग़ पर और तल्वों को

गिलए ख़ार है क्या होना है

Raah To Taigh Par Aur Talwon Ko

Gil-e-Khaar hai Kya Hona Hai

 

रोशनी की हमें आ़दत और घर

ती-रओ तार है क्या होना है

Roshani Ki Hame Aadat Aur Ghar

Teer-O-Taar Hai Kya Hona Hai

 

बीच में आग का दरिया ह़ाइल

क़स्द उस पार है क्या होना है

Beech Me Aag Ka Dariya Haa’il

Qasd Us Paar Hai Kya Hona Hai

 

इस कड़ी धूप को क्योंकर झेलें

शोला-ज़न नार है क्या होना है

Is Kadi Dhoop Ko Kyonkar Jhele’n

Shole-Zan Naar Hai Kya Hona Hai

 

हाए बिगड़ी तो कहां आ कर नाउ

ऐ़न मंजधार है क्या होना है

Haaye Bigdi To Kahan Aakar Naao

Ain Manjdhar Hai Kya Hona Hai

 

कल तो दीदार का दिन और यहां

आंख बेकार है क्या होना है

Kal To Deedar Ka Din Aur Yahan

Aankh Bekaar Hai Kya Hona Hai

 

मुंह दिखाने का नहीं और सह़र

आ़म दरबार है क्या होना है

Muh Dikhane ka Nahi Aur Sahar

Aam Darbaar Hai Kya Hona Hai

 

उनको रह़म आए तो आए वरना

वोह कड़ी मार है क्या होना है

Unko Raham Aaye To Aaye Warna

Woh Kadi Maar Hai Kya Hona hai

 

ले वोह ह़ाकिम के सिपाही आए

सुब्ह़े इज़्हार है क्या होना है

Le Woh Haakim Ke Sipaahi Aaye

Sub’he Izhaar Hai Kya Hona Hai

 

वां नहीं बात बनाने की मजाल

चारह इक़रार है क्या होना है

Waa(n) Nahi Banane Ki Majaal

Charah Iqraar Hai Kya Hona Hai

 

साथ वालों ने यहीं छोड़ दिया

बे कसी यार है क्या होना है

Saath Waalo(n) Ne Yahi Chhor Diya

Be Kasi Yaar Hai Kya Hona Hai

 

आख़िरी दीद है आओ मिल लें

रन्ज बेकार है क्या होना है

Aakhiri Deed Hai Aao Mil Le(n)

Ranj Bekaar hai Kya Hona Hai

 

दिल हमें तुमसे लगाना ही न था

अब सफ़र बार है क्या होना है

Dil Hame Tumse Lagana He Na Tha

Ab Safar Baar Hai Kya Hona Hai

 

जाने वालों पे यह रोना कैसा

बन्दा नाचार है क्या होना है

Jaane Waalon Pe Yeh Rona Kaisa

Banda Naachar Hai Kya Hona Hai

 

नज़्अ़ में ध्यान न बट जाए कहीं

यह अ़बस प्यार है क्या होना है

Naz-aa Me Dhyaan Naa But Jaaye Kahin

Yeh Abas Pyaar Hai Kya Hona Hai

 

इस का ग़म है कि हर इक की सूरत

गले का हार है क्या होना है

Is Ghum Ka Hai Ki Har Ik Ki Soorat

Gale Ka Haar Hai Kya Hona Hai

 

बातें कुछ और भी तुम से करते

पर कहां वार है क्या होना है

Baatein Kuchh Aur Bhi Tum Se Karte

Par Kaha Waar Hai Kya Hona Hai

 

क्यूं रज़ा कुढ़ते हो हंसते उठ्ठो

जब वोह गफ़्फ़ार है क्या होना है

Kyon RAZA Kudte Ho Haste Uththo

Jab Woh Gaffar Hai Kya Hona Hai

 

Raah Purkhaar Hai Kya Hona Hai Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.