Rounak E Bazme Do Jahan Hai Aashikaane Sokhta Naat Lyrics

 

 

रौनक़े बज़में दो जहां है आशिक़ाने सोख़्ता

Shayar: Ala Hazrat | Naat e Paak

Naat Khwan: Owais Raza Qadri, Muhammad Shafiqur Rahman Qadri, Sayyed Raza Qari,

Hadaaiqe Bakhshish Part 1

 

Hindi And English Naat lyrics

रौनक़े बज़में दो जहां है आशिक़ाने सोख़्ता

कह रही है शम्आ़ की गोया ज़बाने सोख़्ता

Rounak E Bazme Do Jahan Hai Aashikaane Sokhta

Kah Rahi Hai Sham’aa Ki Goya Zabane Sokhta

 

जिस को कुर्से मेह़र समझा है जहां ऐ मुन्इ़मो !

उनके ख़्वाने जूद से है एक नाने सोख़्ता

Jis Ko Kurse Mehr Samjha Hai Jahan Ey Muneemo !

Unke Khwane Jood Se Hai Ek Naane Sokhta

 

माहे मन यह नय्यरे मह़शर की गरमीं ताब-के

आतशे इ़श्यां में खुद जलती है जाने सोख़्ता

Maahe Mann Yeh Nayyare Mahshar Ki Garmi Taab-Ke

Aadshe Isyaa(N) Me Khud Jalti Hai Jaane Sokhta

 

बर्क़े अंगुश्ते नबी चमकी थी उस पर एक बार

आज तक है सीनए मह में निशाने सोख़्ता

Barqe Angushta Nabi Chamki Thi Us Par Ek Baar

Aaj Tak Hai Seen-E-Mah Me Nishani Sokhta

 

मेहरे आ़लम ताब झुकता है पए तसलीम रोज़

पेशे ज़र्राते मज़ारे बे दिलाने सोख़्ता

Mehre Aalam Taab Jhukta Hai Paaye Tasleem Roz

Peshe Zarrate Mazare Be Dilaane Sokhta

 

कूचए गेसूए जानां से चले ठन्डी नसीम

बालो पर अफ़्शां हों या रब बुलबुलाने सोख़्ता

Koocha-E-Gesoo-E-Jana Se Chale Thandi Naseem

Baalo Par Afsha(N) Hon Yaa Rab Bulbulane Sokhta

 

बह़रे हक़ ऐ बहरे रह़मत इक निगाहे लुत्फ़ बार

ताब-के बे आब तड़पें माहियाने सोख़्ता

Bahre Haq Ey Bahre Rahmat Ik Nigaahe Lutf Baar

Taab-Ke Be Aab Tadpe Maahiyane Sokhta

 

रु कशे खुरशीदे मह़शर हो तुम्हारे फ़ैज़ से

इक शरारे सीनए शैदाईयाने सोख़्ता

Roo Kashe Khursheed-E-Mahshar Ho Tumhare Faiz Se

Ik Sharare Seenaye Shaida’ee-Yaane Sokhta

 

आतशे दर दामनी ने दिल किये क्या क्या कबाब

ख़िज़र की जां हो जिला दो माहियाने सोख़्ता

Aatshe Dar Daamni Ne Dil Kiye Kya Kya Kabaab

Khizar Ki Jaa(N) Ho Jila Do Maahiyaane Sokhta

 

आतशे गुलहाए त़यबा पर जलाने के लिए

जान के त़ालिब हैं प्यारे बुलबुलाने सोख़्ता

Aatshe Gulhaaye Taiba Par Jalane Ke Liye

Jaan Ke Taalib Hein Pyare Bulbulane Sokhta

 

लुत्फ़े बर्क़े जल्वए मेराज लाया वज्द में

शोलए जव्वाला सां है आस्माने सोख़्ता

Lutfe Barqe Jalwa-E-Meraaj Laaya Wajd Me

Shoal-E-Jawwala Saa(N) Hai Aasmane Sokhta

 

ऐ रज़ा मज़मून सोज़े दिल की रिफ़अ़त ने किया

इस ज़मीने सोख़्ता को आस्माने सोख़्ता

Ey RAZA Mazmoon Soze Dil Ki Rif’at Ne Kiya

Is Zameene Sokhta Ko Aasmaane Sokhta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.