मौला मेरा वी घर होवे उते रहमत दी छां होवे

मौला मेरा वी घर होवे उते रहमत दी छां होवे तू सब दा मालिक, ख़ालिक, दो-जग दा तू सुलतान ए हर बे-ज़र ते हर बे-घर दे, मौला ! दिल विच अरमान ए मौला मेरा वी घर होवे उते रहमत दी छां होवे मेरे दरवाज़े ते लिख्या नबी पाक दा नां होवे मिलादे-मुस्तफ़ा मौला मैं अपने …

मौला मेरा वी घर होवे उते रहमत दी छां होवे Read More »