मेरी झोली को भर दे, ए ख़ुदा ! सदक़े मुहम्मद के

 

 

 

मेरी झोली को भर दे, ए ख़ुदा ! सदक़े मुहम्मद के
गुनहगारों का भी कर दे भला सदक़े मुहम्मद के

मेरी झोली को भर दे

हमारे हाल पर, दाता ! करम अपना सदा रखना
तू ही शैतान से ईमान वालों को बचा रखना
हर इक तूफ़ाँ में देना आसरा सदक़े मुहम्मद के

मेरी झोली को भर दे, ए ख़ुदा ! सदक़े मुहम्मद के

मेरी झोली को भर दे

समझती है ये दुनिया अपना हम ईमान दे देंगे
मगर ईमान की ख़ातिर हम अपनी जान दे देंगे
हमें इस आज़माइश से बचा सदक़े मुहम्मद के

मेरी झोली को भर दे, ए ख़ुदा ! सदक़े मुहम्मद के

मेरी झोली को भर दे

तेरी रहमत को हम रो रो के, ए मालिक ! जगा देंगे
ये पर्दे आसमाँ के हम दु’आओं से हिला देंगे
हमें नूर-ए-नज़र से फिर मिला सदक़े मुहम्मद के

मेरी झोली को भर दे, ए ख़ुदा ! सदक़े मुहम्मद के
गुनहगारों का भी कर दे भला सदक़े मुहम्मद के

 

meri jholi ko bhar de, ai KHuda ! sadqe muhammad ke
gunahgaaro.n ka bhi kar de bhala sadqe muhammad ke

meri jholi ko bhar de

hamaare haal par, daata ! karam apna sada rakhna
tu hi shaitaan se imaan waalo.n ko bacha rakhna
har ik toofaa.n me.n dena aasra sadqe muhammad ke

meri jholi ko bhar de, ai KHuda ! sadqe muhammad ke

meri jholi ko bhar de

samajhti hai ye duniya apna ham imaan de de.nge
magar imaan ki KHaatir ham apni jaan de de.nge
hame.n is aazmaaish se bacha sadqe muhammad ke

meri jholi ko bhar de, ai KHuda ! sadqe muhammad ke

meri jholi ko bhar de

teri rahmat ko ham ro ro ke, ai maalik ! jaga de.nge
ye parde aasmaa.n ke ham du’aao.n se hila de.nge
hame.n noor-e-nazar se phir mila sadqe muhammad ke

meri jholi ko bhar de, ai KHuda ! sadqe muhammad ke
gunahgaaro.n ka bhi kar de bhala sadqe muhammad ke

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.