Asghar Tere Jhoole Mein Khamoshi Badi Hai Lyrics

 

 

Khamoshi.. Badi Hai Khamoshi
Badi hai Khamoshi.. Badi hai Khamoshi…

 

Kya Deñge Sakeena Ko Dilaasa, Nahi Raha
Jeene Ka Ab Sahaara Zara Sa Nahi Raha

Ab Koi Sada Jhoole Se Aati Hi Nahi Hai
Kya Pyas Bujh Gayi Hai Ya Pyasa Nahi Hai

 

Asghar Tere Jhoole Mein Khamoshi Badi Hai
Khamoshi.. Badi Hai Khamoshi.. Badi hai..

 

Asghar Tere Jhoole Mein Khamoshi Badi Hai
Paani Liye Sakina Hairaan Khadi Hai !

paani liye sakina hairaan khadi hai..
asghar tere jhoole mein khamoshi badi hai

 

Ye Kaun Hai Kanoñ Se Lahu Bahta Hai Jiske
Teeroñ Se Bhare Shakhs Ke Seene Pe Padi Hai

paani liye sakina hairaan khadi hai..
asghar tere jhoole mein khamoshi badi hai..

 

Zewar Kiya Shabbir Ne Karbal Ki Zameen Ko
har Laash Nageene Ki Tarah Is Mein Jadi Hai

paani liye sakina hairaan khadi hai..
asghar tere jhoole ..

 

Aye Maut Kyuñ Paseena Hai Aaj Jabeeñ Par ?
Chhe (6) Maah Ke Asghar Se Teri Aankh Ladi Hai

paani liye sakina hairaan khadi hai..
asghar tere jhoole ..

 

Ik Nok Aazma Rahi Hai Sabr Shaah Ka
Hamshakal E Mustafa Ke Jo Seene Mein Gadi Hai

paani liye sakina hairaan khadi hai..
asghar tere jhoole ..

 

Qasid Yeh Khwab Jaake Tu Baba Ko Suna De
Cheekheñ Hain, Sadaayeñ Hain Aur Aag Badi Hai

paani liye sakina hairaan khadi hai..
asghar tere jhoole me khaamoshi badi hai

 

Khamoshi.. Badi Hai Khamoshi
Badi Hai Khamoshi.. Badi Hai Khamoshi..

 

 

असगर तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है लिरिक्स

Asghar Tere Jhoole Mein Khamoshi Badi Hai Lyrics in Hindi

Qawwal : Rahat Fateh Ali Khan

Read in English/Roman
ख़ामोशी.. बड़ी है ख़ामोशी..
बड़ी है ख़ामोशी.. बड़ी है ख़ामोशी..

क्या देंगे सकीना को दिलासा, नहीं रहा
जीने का अब सहारा ज़रा सा, नहीं रहा
अब कोई सदा झूले से आती ही नहीं है
क्या प्यास बुझ गई है या प्यासा नहीं रहा!

असग़र तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है
ख़ामोशी.. बड़ी है ख़ामोशी.. बड़ी है..

 

असग़र तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है
पानी लिए सकीना हैरान खड़ी है

ख़ामोशी.. बड़ी है ख़ामोशी.. बड़ी है..

 

यह कौन है कानों से लहू बहता है जिसके
तीरों से भरे शख़्स के सीने पे पड़ी है

पानी लिए सकीना हैरान खड़ी है
असग़र तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है..

 

ज़ेवर किया शब्बीर ने करबल की ज़मीं को
हर लाश नगीने की तरह इसमें जड़ी है

पानी लिए सकीना हैरान खड़ी है
असग़र तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है..

 

ऐ मौत क्यूं पसीना है आज जबीं पर
छः माह के असग़र से तेरी आंख लड़ी है

पानी लिए सकीना हैरान खड़ी है
असगर तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है..

 

इक नोक आज़मा रही है सब्र शाह का
हमशक्ल ए मुस्तफ़ा के जो सीने में गड़ी है

पानी लिए सकीना हैरान खड़ी है
असगर तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है..

 

क़ासिद ये ख़्वाब जा के तू बाबा को सुना दे
चीख़ें हैं, सदाएं हैं और आग बड़ी है

पानी लिए सकीना हैरान खड़ी है..
असगर तेरे झूले में ख़ामोशी बड़ी है..

ख़ामोशी.. बड़ी है ख़ामोशी..
बड़ी है ख़ामोशी.. बड़ी है ख़ामोशी..

asghar-tere-jhoole-mein-khamoshi-badi-hai-lyrics-in-hind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.