Darbar e nabi pe sar rakhkar Naat Lyrics

 

Darbar e nabi pe sar rakhkar
Phir sar ko wahan se uthana kya

Mastane nahi socha karte
Phir hamko kahega zamana kya

 

Aadab e nabubat ae logo
Kirdar e malayak se poonchho

Jibreel ijazat lete hain
Hai mere nabi ka gharana kya

Hai jiska mazaron se risha
Firdous hi uski manzil hai

Mastane nahi socha karte
Phir hamko kahega zamana kya

Jo masjid masjid phirta hai
Us shakhs ka koi thikana kya

Mastane nahi socha karte
Phir hamko kahega zamana kya

 

Ma-kunta-takoolo ka matlab
Kya kar ke mare ho wo bolo
Duniya me inhe mana hi nahin
Ab ishq ki jyot jagana kya

Mastane nahi socha karte
Phir hamko kahega zamana kya

 

Hai saari sajawat ka rishta
Kaunain ke dula se faizi
Ghar baar e himi ko sajaya nahin
Ab shaadi me hai sajana kya

Mastane nahi socha karte
Phir hamko kahega zamana kya

 

 

दरवार-ए- नबी पे सर रखकर
फिर सर को वहां से उठाना क्या

मस्ताने नहीं सोचा करते फिर हमको कहेगा ज़माना क्या

 

आदाब-ए-नबूबत ऐ लोगों
किरदार-ए-मलायक से पूछो

जिब्रील इजाज़त लेते हैं,
है मेरे नबी का घराना क्या

है जिसका मज़ारों से रिश्ता,
फ़िरदौस ही उसकी मंज़िल है

मस्ताने नहीं सोचा करते फिर हमको कहेगा ज़माना क्या

 

जो मस्जिद मस्जिद फिरता है
उस शख़्स का कोई ठिकाना क्या

मस्ताने नहीं सोचा करते फिर हमको कहेगा ज़माना क्या

 

मा-कुन्ता-तकूलो का मतलब
क्या करके मरे हो वो बोलो
दुनिया में इन्हें माना ही नहीं
अब इ़श्क़ की ज्योति जगाना क्या

मस्ताने नहीं सोचा करते फिर हमको कहेगा ज़माना क्या

 

है सारी सजावट का रिश्ता
कौनैन के दूलाह से फ़ैज़ी
घर बार-ए-हिमी को सजाया नहीं
अब शादी में है सजाना क्या

मस्ताने नहीं सोचा करते फिर हमको कहेगा ज़माना क्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.