Haj Par Bula Maula Lyrics

 

 

Haj Par Bula Maula Lyrics In English

Naat Khwan: Hafiz Tahir Qadri, Hafiz Ahsan Raza Qadri

Shayar: Tafseer Raza Amzadi

हिन्दी के लिए यहाँ टच करें
Gilaf-e-Khana-e-Kaaba Tha Mere Hathon Me
Khuda Se Arz-o-Guzarish Ki Inthaao.n Me Tha

Tawaaf Karta Tha Parwana-war Kaabe Ka
Jahan-e-Arz-o-Sama Jaise Mere Paon Me Tha

Hateem Mere Sajdon Ki Kaifiyat Thi Ajab
Jabi Zamin Pe Thi, Zahan Kahkashao.n Me Tha

Dar-e-Karam Pe Sada De Raha Tha Ashqon Se
Jo Multazam Pe Khade The Mein Un Gadaon Me Hun

Mujhe Yaqeen Hai Mai Fir Bulaya Jaunga
Ki Ye Sawaal Bhi Shamil Meri Duaon Me Tha

 

Ab Raaste Khulein, Pahunchoo Mein Ya Khuda

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

 

Ya Khuda Bahre Muhammad Tu Mujhe Haj Par Bula
Kaash Mein Bhi Dekh Lun Aakar Hasin Kaba Tera

 

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

Moula Moula Moula Moula
Moula Moula Moula Moula

 

Kaash Aa Jaye Bulawa Us Mubarak Shahar Se
Hai Jahan Par Turbat-e-Khairul Bashar Jalwa Numa

 

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

Ab Raaste Khulein, Pahunchoo Mein Ya Khuda

Moula Moula Moula Moula
Moula Moula Moula Moula

 

Ya Khuda Jab Dekh Lunga Mein Tera Pyara Hasan
Jaunga Fir Hajiyon Ke Saath Shahre Mustafa

 

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

Ab Raaste Khulein, Pahunchoo Mein Ya Khuda

 

Ilaahi Fir Dikha De Wo Pyara Pyara Kaaba

 

Fir Dikha De Haram Tere Bande Hein Ham
Ham Pe Kar De Karam Tere Bande Hein Ham

Ham Gunahgar Hein Ham Siyah-Kaar Hein
Ho Karam Karam Tere Bande Hein Ham

Samne Kaaba Ho Tera Dast Basta Main Rahun
Yeh Karam Kar De Khuda, Sadqa-e-Khairul Wara

 

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

Ab Raaste Khulein, Pahunchoo Mein Ya Khuda

Moula Moula Moula Moula
Moula Moula Moula Moula

 

Sange Aswad Ka Mein Bosa Ya Khuda Leta Rahun
Az Paye Ghousul-wara Mujhko Sharaf Ho Ye Ata

Aabe Zamzam Bhi Wahan Par Mai Khoob Peeta Rahun
Ho Karam Mujh Par Khuda Bahre Janabe Mustafa

 

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

Ab Raaste Khulein, Pahunchoo Mein Ya Khuda

Moula Moula Moula Moula
Moula Moula Moula Moula

 

Kyon Na Jaye Makka Se Tafseer Darbar-e-Nabi
Jabki Unke Dar Par Bat’tha Hai Khazana Noor Ka

 

Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula
Haj Par Bula Moula, Kaaba Dikha Moula

Ab Raaste Khulein, Pahunchoo Mein Ya Khuda

Moula Moula Moula Moula
Moula Moula Moula Moula

 

 

हज पर बुला मौला काबा दिखा मौला

 

गिलाफ़े खाना-ए-काबा था मेरे हाथों में
ख़ुदा से अ़र्ज़ो गुज़ारिश की इन्तिहाओं में था

तवाफ़ करता था परवाना वार काबे का
जहाने अ़र्ज़ो समां जैसे मेरे पावों में था

हतीम मेरे सज्दों की कैफ़ियत थी अजब
जबीं ज़मीन पे थी ज़हन कहकशाओं में था

दरे करम पे सदा दे रहा था अश्क़ों से
जो मुलतज़म पे खड़े थे मैं उन गदाओं में था

मुझे यक़ीन है मैं फिर बुलाया जाऊंगा
कि ये सवाल भी शामिल मेरी दुआओं में था

अब रास्ते खुलें, पहुंचूं मैं या ख़ुदा

हज पर बुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर बुला मौला, काबा दिखा मौला

 

या ख़ुदा बहरे मुहम्मद तू मुझे हज पर बुला
काश मैं भी देख लूं आकर हसीं काबा तेरा

हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

 

काश आजाए बुलावा उस मुबारक शहर से
है जहां पर तुर्बते खैरुल बशर जल्वा नुमा

हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला

अब रास्ते खुलें, पहुंचूं मैं या ख़ुदा

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

 

या ख़ुदा जब देख लूंगा मैं तेरा प्यारा हरम
जाऊंगा फिर हाजियों के साथ शहरे मुस्त़फ़ा

हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला

अब रास्ते खुलें, पहुंचूं मैं या ख़ुदा

 

इलाही फिर दिखा दे वो प्यारा प्यारा काबा

फिर दिखा दे हरम तेरे बंदे हैं हम
हम पे कर दे करम तेरे बंदे हैं हम

हम गुनाहगार हैं हम सियाह कार हैं
हो करम करम करम तेरे बंदे हैं हम

सामने काबा हो तेरा दस्त बस्ता मैं रहूं
यह करम कर दे ख़ुदा, सदक़ा ए खैरुल वरा

हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला

अब रास्ते खुलें, पहुंचूं मैं या ख़ुदा

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

 

संगे अस्वद का मैं बोसा या ख़ुदा लेता रहूँ
अज़ पए ग़ौसुल वरा मुझको शरफ़ हो ये अ़ता

आबे ज़मज़म भी वहां पर खूब मैं पीता रहूँ
हो करम मुझ पर ख़ुदा बहरे जनाबे मुस्त़फ़ा

हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला

अब रास्ते खुलें, पहुंचूं मैं या ख़ुदा

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

 

क्यों ना जाए मक्का से तफ़सीर दरबार ए नबी
जबकि उनके दर पर बटता है खज़ाना नूर का

हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला
हज पर ब़ुला मौला, काबा दिखा मौला

अब रास्ते खुलें, पहुंचूं मैं या ख़ुदा

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.