Ham Madine Se Allah Kyon Aa Gaye Naat Lyrics

Ham Madine Se Allah Kyon Aa Gaye

Qalbe Haira(n) Ki Qaski Wahin Rah Gaai

Dil Wahin Rah Gaya Jaan Wahin Rah Gaai

Kham Usi Dar Pe Apni Jabin Rah Gaai

Yaad Aatey Hai n Hamko Woh Shaam-o-sahar

Woh Sukoon-o-Dilo jaa(n) Woh Rooh-o-Nazar

Ye Unhi Ka Karam Hai Unhi Ki Ata

Ek Kaifiyat-e-Dil Nashin Rah Gaai

Dil Wahin Rah Gaya Jaan Wahin Rah Gaai

Kham Usi Dar Pe Apni Zabin Rah Gaai

Allah Allah Wahan Ka Durood-o-Salam

Allah Allah Wahan Ka Sujood-O-Qayam

Ham Madine Se Allah Kyon Aa Gaye Naat Lyrics

Allah Allah Wahan Ka Woh Kaif-e-Dawaam

Woh Salaat-E-Sukoon Aafri Rah Gaai

Dil Wahin Rah Gaya Jaan Wahin Rah Gaai

Kham Usi Dar Pe Apni Zabin Rah Gaai

Jis Jagah Sajda Rezi Ki Lazzat Mili

Jis Jagah Har Qadam Unki Rahmat Mili

Jis Jagah Noor Rahta Hai Shaam-O-Sahar

Woh Falak Rah Gaya Woh Zamin Rah Gaai

Dil Wahin Rah Gaya Jaan Wahin Rah Gaai

Kham Usi Dar Pe Apni Zabin Rah Gaai

Padh Ke Nasrum-Minallahe-Fat'hun Karim

Jab Huye Hum-Rawa(n) Sooye Kooye Habib

Barkaten-Rahmaten Saath Chalne Lagin

Be-Basi Zindagi Ki Yahin Rah Gaai

Dil Wahin Rah Gaya Jaan Wahin Rah Gaai

Kham Usi Dar Pe Apni Zabin Rah Gaai

Zindgani Wahin Kash Hoti Basar

Kash Bahzad Aatey Na Ham Lautkar

Aur Poori Hui Tamanna Magar

Ye Tamanna-e-Qalbe Hazi Rah Gaai

Ham Madine Se Allah Kyon Aa Gaye

Qalbe Haira (n) Ki Qasqi Wahin Rah Gaai

Dil Wahin Rah Gaya Jaan Wahin Rah Gaai

Kham Usi Dar Pe Apni Jabin Rah Gaai

Hindi Lyrics

Hindi Naat Lyrics

Hindi Manqabat Lyrics

Ham Madine Se Allah Kyon Aa Gaye Naat Lyrics

हम मदीने से अल्लाह क्यों आ गए

क़ल्बे हैरां की क़स्की वहीं रह गई

दिल वहीं रह गया जां वहीं रह गई

ख़म उसी दर पे अपनी जबीं रह गई

याद आते हैं हमको वोह शामो सहर

वोह सुकून-ओ-दिलो जां वोह रुहो नज़र

ये उन्ही का करम है उन्हीं की अता

एक कैफ़ियत-ए-दिल नशीं रह गई

दिल वहीं रह गया जां वहीं रह गई

ख़म उसी दर पे अपनी ज़वीं रह गई

अल्लाह अल्लाह वहां का दुरुदो सलाम

अल्लाह अल्लाह वहां का सुजूदो क़याम

अल्लाह अल्लाह वहां का वोह कैफ़-ए दवाम

वोह सलाते सुकूं आफ़री रह गई

दिल वहीं रह गया जां वहीं रह गई

ख़म उसी दर पे अपनी ज़वीं रह गई

जिस जगह सज्दा रेज़ी की लज़्ज़त मिली

जिस जगह हर क़दम उनकी रह़मत मिली

जिस जगह नूर रहता है शाम-ओ-सहर

वोह फ़लक रह गया वोह ज़मीं रह गई

दिल वहीं रह गया जां वहीं रह गई

ख़म उसी दर पे अपनी ज़वीं रह गई

पढ़ के नसरुम-मिनल्लाहे-फ़तहुन-करीम

जब हुए हम-रवां सूए कूए ह़बीब

बरकतें-रहमतें साथ चलने लगीं

बे-बसी ज़िन्दगी की यहीं रह गई

दिल वहीं रह गया जां वहीं रह गई

ख़म उसी दर पे अपनी ज़वीं रह गई

ज़िन्दगानी वहीं काश होती बसर

काश बहज़ाद आते न हम लौटकर

और पूरी हुई हर तमन्ना मगर

ये तमन्ना-ए-क़ल्बे हज़ी रह गई

हम मदीने से अल्लाह क्यों आ गए

क़ल्बे हैरां की क़स्की वहीं रह गई

दिल वहीं रह गया जां वहीं रह गई

ख़म उसी दर पे अपनी जबीं रह गई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.