Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley Lyrics

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley Lyrics

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley In English

Naat Khwan:Hafiz Fahad Shah

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Teri Khatir Chalun Teri Khatir Rukoon
Har Qadam Har Amal Beriya’ee Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Phir Se Zinda-o-Aabad Hoga Agar
Aasma.n Se Jigar Ko Dawaai Mile
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Chashme Ghafil Pe Taqwa Ka Pahra Rahe
Dil Ko Touheed Ki Roushnayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Saari Duniya Se Anjan Hokar Chalun
Mere Qadmon Ko Aashnayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Ghadi Dil Me Ye Gham Hamesha Rahe
Saari Ummat Ko Teri Gadaayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Khair Wale Sabhi Mere Aamal Ka
Kuchh Yahan, Kuchh Wahan Par Kamaayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Fazl Aur Aafiyat Ka Rahe Maamla
Rooh Ko Jism Se Jab Rihaayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Ae Khuda Tere Hud-Hud Ki Tujhse Dua
Shouq e Parwaz Ko Rahnumaayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

Har Dua Ko Falak Tak Rasayi Miley
Mujh Gunahgar Ko Paarsayi Miley

 

हर दुआ को फ़लक तक रसाई मिले | Hindi Dua Lyrics

 

हर दुआ को फ़लक तक रसाई मिले | Hindi Dua Lyrics

Naat Khwan:Hafiz Fahad Shah

 

हर दुआ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

तेरी ख़ातिर चलूँ तेरी ख़ातिर रुकूँ
हर क़दम हर अमल बेरियाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

फिर से ज़िन्दा-ओ-आबाद होगा अगर
आस्मां से जिगर को दवाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

चश्मे गाफ़िल पे तक़वा का पहरा रहे
दिल को तौहीद की रौशनाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ़ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

सारी दुनिया से अन्जान होकर चलूँ
मेरे क़दमों को वो आशनाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ़ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर घड़ी दिल में ये ग़म हमेशा रहे
सारी उम्मत को तेरी गदाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ़ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

खैर वाले सभी मेरे आमाल का
कुछ यहाँ, कुछ वहां पर कमाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ़ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

फज़्ल और आफ़ियत का रहे मामला
रुह़ को जिस्म से जब रिहाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ़ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

ऐ ख़ुदा तेरे हुद हुद की तुझसे दुआ
शौक़-ए-परवाज़ को रहनुमाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

 

हर दुआ़ को फ़लक तक रसाई मिले
मुझ गुनाहगार को पारसाई मिले

हर दुआ को फ़लक तक रसाई मिले

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.