Ishrat Se Mujhe Kaam Lyrics

 

 

Ya Allah, Ya Rahman, Ya Rahim, Ya Karim
Ya Ghafooro, Ya Shakuro, Ya Wadudo, Ya Majeed

Moula Moula Moula Moula
Moula Moula Moula Moula

Allah ……..

 

Ishrat Se Mujhe Kaam Na Duniya e Tarab Se
Dekha Hai Nihaan Khana e Dil Ankh Ne Jab Se

 

Nazdeek Wo Itne The Ke Bas Mil Gaye Dil Me
Tha Garam e Safar Jinke Liye Jaan Me Kab Se

 

Gar Jumbush e Mijga.n Karishma Hai Ye Duniya
Kya Dhoom Machegi teri Ik Jumbish e Lab Se

 

Ishrat Se Mujhe Kaam Na Duniya e Tarab Se
Dekha Hai Nihaan Khana e Dil Ankh Ne Jab Se

 

Ae Julmat e Haalaat Se Ji Chhorne WaLo
Pau Fat’ti Hai Har Roz Isi Seena e Shab Se

 

Khushiyon Ke Muqaddar Me Hai Sadmon Ki Rafaaqat
Kaante Ye Sada Dete Hein Phoolon Ke Aqab Se

 

Ishrat Se Mujhe Kaam Na Duniya e Tarab Se
Dekha Hai Nihaan Khana e Dil Ankh Ne Jab Se

 

Allah Re Chehre Pe Ye Aijaz Mohabbat
Rang Aur Nikhar Aata Hai Kuchh Ranj-o-Ta’ab Se

 

Do Gaam Chale The Ke Nazar Aa Gaayi Manzil
Markab Koi Behtar Na Mila Tarke Talab Se

 

Ishrat Se Mujhe Kam Na Duniya e Tarab Se
Dekha Hai Nihaan Khana e Dil Ankh Ne Jab Se

 

Pal Bhar Me Wo Afsana e Dil Kah Gayin Aankhen
Barson Me Bhi Jisko Na Suna Paun Mein Lab Se

 

Ae Sub’ho Ko Tanveer e Shafaq Dekhne Walo
Foota Hai Ye Asl Me Qurbani e Shab Se

 

Kya Kam Hai Ye Aijaz Ke Us Bazm Me Aasi
Hai Zikr Mera Zalim o Nada.n Ke Laqab Se

 

Ishrat Se Mujhe Kam Na Duniya e Tarab Se
Dekha Hai Nihaan Khana e Dil Ankh Ne Jab Se

 

 

 

या अल्लाह,या रहमान, या रह़ीम, या करीम
या ग़फ़ूरो, या शकूरो, या वदूदो, या मजीद

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

अल्लाह ……..

 

इशरत से मुझे काम ना दुनिया ए तरब से
देखा है निहां ख़ाना ए दिल आंख ने जब से

 

नज़दीक वो इतने थे के बस मिल गए दिल में
था गरम ए सफ़र जिनके लिए जान में कब से

 

गर जुम्बुश ए मिजगां करिश्मा है ये दुनिया
क्या धूम मचेगी तेरी इक जुम्बिश ए लब से

 

इशरत से मुझे काम ना दुनिया ए तरब से
देखा है निहां ख़ाना ए दिल आंख ने जब से

 

ऐ जुलमत ए हालात से जी छोड़ने वालो
पौ फ़टती है हर रोज़ इसी सीना ए शब से

 

ख़ुशियों के मुक़द्दर में है सदमों की रफ़ाक़त
कांटे ये सदा देते हैं फूलों के अक़ब से

 

इशरत से मुझे काम ना दुनिया ए तरब से
देखा है निहां ख़ाना ए दिल आंख ने जब से

 

अल्लाह रे चेहरे पे ये एजाज़ ए मोह़ब्बत
रंग और निखर आता है कुछ रंज-ओ-तअ़ब से

 

दो गाम चले थे के नज़र आ गई मंज़िल
मर्कब कोई बेहतर ना मिला तरके त़लब से

 

इशरत से मुझे काम ना दुनिया ए तरब से
देखा है निहां ख़ाना ए दिल आंख ने जब से

 

पल भर में वो अफ़साना ए दिल कह गयीं आंखें
बरसों में भी जिसको ना सुना पाऊं मैं लब से

 

ऐ सुब्हो को तनवीर ए शफ़क़ देखने वालो
फूटा है ये असल में क़ुरबानी ए शब से

 

क्या कम है ये एजाज़ के उस बज़्म में, आसीं
है ज़िक्र मेरा ज़ालिम-ओ-नादां के लक़ब से

 

इशरत से मुझे काम ना दुनिया ए तरब से
देखा है निहां ख़ाना ए दिल आंख ने जब से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.