Koi ahle imaan jahannum me jaye lyrics

 

 

Koi ahle imaan jahannum me jaye
Habib e khuda kab gawara karenge

कोई अहले ईमां जहन्नुम में जाये
हबीब ए ख़ुदा कब गवारा करेंगे

 

Udhar doud jayenge rahmat ke amle
Jidhar aap mudkar ishara karenge

उधर दौड़ जायेंगे रह़मत के अमले
जिधर आप मुड़कर इशारा करेंगे

 

Hai ummid jannat me bhi hoga jalsa
Wahan bhi lagega risalat ka nara

है उम्मीद जन्नत में भी होगा जल्सा
वहां भी लगेगा रिसालत का नारा

 

Munafiq bhi dozakh ki khidki se uska
Basad yaas-o-hasrat lagaya karenge

मुनाफ़िक़ भी दोज़ख़ की खिड़की से उसका
बसद यास-ओ-हसरत लगाया करेंगे

 

Gunahgaro aao shafa’at karunga
Tujhe main jahannum me jane na dunga

गुनाहगारो आओ शफ़ाअत करुंगा
तुझे मैं जहन्नुम में जाने ना दूंगा

 

Kahenge sabhi Iz Haboo Aur Muhammad
Ghulamon ko khud hi pukara karenge

कहेंगे सभी इज़ हबू और मुह़म्मद
ग़ुलामों को खुद ही पुकारा करेंगे

 

Agar dewbandi bahawi mile to
Buraai wo ahmad raza ki kare to
Haweli mujahid ki le jake uski
Wahi par hi chamdi utara karenge

अगर देवबन्दी बहावी मिले तो
बुराई वो अहमद रज़ा की करे तो
हवेली मुजाहिद की ले जा के उसकी
वहीं पर ही चमड़ी उतारा करेंगे

 

Khuda ki qasam faizi zinda rahoge
Pashe marg bhi be nishan tum na hoge
Padhi jayegi naat jab tak nabi ki
Musalman charcha tumhara karenge

ख़ुदा की क़सम फ़ैज़ी ज़िन्दा रहोगे
पशे मर्ग भी बे-निशां तुम ना होगे
पढ़ी जायेगी नात जब तक नबी की
मुस्लमान चर्चा तुम्हारा करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.