Mujh Pe Bhi Chashm-e-Karam Naat Lyrics

 

Mujh Pe Bhi Chashm-e-Karam Naat Lyrics
मुझ पे भी चश्मे करम ऐ मेरे आक़ा करना

Naat Khwan: Owais Raza Qadri
Shayar: Nasiruddin Naseer

 

मुझ पे भी चश्म-ए-करम ऐ मेरे आक़ा करना
ह़क़ तो मेरा भी है रह़मत का तक़ाज़ा करना
Mujh Pe Bhi Chashm-e-Karam Ae Mere Aaqa Karna
Haq To Mera Bhi Hai Rahmat Ka Taqaza Karna

 

तू किसी को भी उठाता नहीं अपने दर से
कि तेरी शान के शायां नहीं ऐसा करना
Tu Kisi Ko Bhi Uthata Nahin Apne Dar Se
Ki Teri Shaan Ke Shaya.n Nahin Aisa Karna

 

मैं एक ज़र्रा हूं मुझे वुसअत-ए-सहरा दे दे
कि तेरे बस में है क़तरे को भी दरिया करना
Main Ek Zarra Hun Mujhe Wus’At-e-Sahara De De
Ki Tere Bas Me Hai Qatre Ko Bhi Dariya Karna

 

तेरे सदक़े वो उसी रंग में खुद ही डूबा
जिसने जिस रंग में चाहा मुझे रुसवा करना
Tere Sadqe Wo Usi Rung Me Khud Hee Dooba
Jisne Jis Rung Me Chaha Mujhe Ruswa Karna

 

ये तेरी शान है ऐ आमना के दुर्र-ए-यतीम
सारी उम्मत की शफ़ाअ़त तन्हा-तन्हा करना
Ye Teri Shaan Hai Ae Amna Ke Durr-e-Yateem
Saari Ummat Ki Shafa’at Tanha-Tanha Karna

 

मुझ पे मह़शर में नसीर उनकी नज़र पड़ ही गई
कहने वाले इसे कहते हैं ख़ुदा का करना
Mujh Pe Mahshar Me Naseer Unki Nazar Pad Hee Gayi
Kahne Wale Ise Kahte Hain Khuda Ka Karna

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.