Mustafa Ki Aamad Ka Waqt Kya Nirala Hai Lyrics

 

 

Mustafa Ki Aamad Ka Waqt Kya Nirala Hai

Shab Guzarne Waali Hai Din Nikalne Wala Hai

मुस्तफ़ा की आमद का वक़्त क्या निराला है

शब गुज़रने वाली है दिन निकलने वाला है

 

Unke Paon Ka Dhowan Chand Me Siraron Me

Rang-O-Rogan-E-Jannat Aapka Gusaala Hai

उनके पांव का धोबन चांद में सितारों में

रंग-ओ-रोगने जन्नत आपका गुसाला है

 

Hazraton Ke Hazrat Bhi Dekh Kar Yehi Bole

Mere Aala Hazrat Ka Martaba Nirala Hai

हज़रतों के हज़रत भी देखकर यही बोले

मेरे आला हज़रत का मर्तबा निराला है

 

Aasman Ki Unchaayi Usko Paa Nahin Sakti

Jis Ko Aala Hazrat Ke Ishq Ne Uchhala Hai

आसमां की ऊंचाई उसको पा नहीं सकती

जिसको आला हज़रत के इश्क़ ने उछाला है

 

Dushmanane Aaqa To Jayen Ge Jahannam Me

Aashiqon Ki Qismat Me Jannati Niwala Hai

दुश्मनाने आक़ा तो जाएंगे जहन्नम में

आशिकों की क़िस्मत में जन्नती निवाला है

 

Us Ko Chhoo Nahin Saktin Zahmatein Zamane Ki

Jisko Mere Aaqa Ki Rahmaton Ne Pala Hai

उसको छू नहीं सकतीं ज़हमतें ज़माने की

जिसको मेरे आक़ा की रह़मतों ने पाला है

 

Mustafa Ki Aamad Ka Waqt Kya Nirala Hai

Shab Guzarne Waali Hai Din Nikal Ne Wala

मुस्तफ़ा की आमद का वक़्त क्या निराला है

शब गुज़रने वाली है दिन निकलने वाला है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.