Nazar Chand Ramzan Ka Aa Gaya Hai Lyrics

 

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Ramzan ramzan ramzan

 

Khusha maahe ramzan phir aa gaya hai
Dare rahmat ik baar phirwaa hua hai
Ye quraan ramza me nazil hua hai
Isi me shabe qadr ki bhi ata hai.

 

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Khuda ke karam se khule baab-e-jannat
Har ik baab-e-dozakh ko taala pada hai
Masarrat ke badal umand kar ke aaye
Khushi se dil-e-ghamzada khil utha hai.

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Ramzan ramzan ramzan

 

Jo sarkash shayateen bandhe gaye hain
To ramzan me shaita.n bhi qaidi bana hai
Fazae.n munawwar, sama kaif aawar
Har ik lamha ramza.n ka raunaq bhara hai.

 

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Ibadat me lazzat tilawat me riqqat
Jo hai bakht bedaar wo pa raha hai
Diwano ko rozon namazon me lazzat
Duaon me bhi kya maza aa raha hai

 

Jo hai aashiq-e-sadiq-e-maah-e-ramzan
Wo jannat ki janib badha ja raha hai.

 

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Sabhi rozadaron ki har mo’tafiq ki
Tu kar maghfirat iltuja ya khuda hai
Main ishq-e Muhammad ﷺ me roya karun kash
Khuda tujhse ye bahr-e-ramza.n dua hai
Karun har baras haj madina bhi dekhun
Paye maah-e-ramza.n khudaya dua hai

 

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Ilahi bana aashiq-e maah-e ramza.n
Tujhe madni sarkar ka wasta hai
Gham-maahe ramza.n se kar de Musharraf
Tu attar ko ya khuda iltija hai

 

Sama aaj har samt khushiyon bhara hai
Nazar chand ramzan ka aa gaya hai

 

Recited by: Ashfaq Attari & Mahmood Attari

More Ramzan Related Kalam

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

 

रमज़ान रमज़ान रमज़ान

 

ख़ुशा माह-ए-रमज़ान फिर आ गया है
दरे रह़मत इक बार फ़िरवा हुआ है
ये क़ुरआन रमज़ान में नाज़िल हुआ है
इसी में शबे क़द्र की भी अता है

 

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

 

ख़ुदा के करम से खुले बाब-ए-जन्नत
हर इक बाब-ए-दोज़ख़ को ताला पड़ा है
मसर्रत के बादल उमड़ करके आए
खुशी से दिल-ए-ग़मज़दा खिल उठा है

 

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

 

रमज़ान रमज़ान रमज़ान

 

जो सर्कश शयातीन बांधे गए हैं
तो रमज़ान में शैतां भी क़ैदी बना है
फ़ज़ाएं मुनव्वर, समां कैफ़ आवर
हर इक लम्हा रम्ज़ां का रौनक़ भरा है

 

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

 

इबादत में लज़्ज़त, तिलावत में रिक़्क़त
जो है बख़्त बेदार वो पा रहा है
दीवानों को रोजों में लज़्ज़त
दुआओं में भी क्या मज़ा आ रहा है
जो है आशिक़े सादिक़े के माहे रम्ज़ां
वो जन्नत की जानिब बढ़ा जा रहा है

 

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

 

सभी रोज़ादारों को हर मोतफ़िक़ की
तू कर मग़फ़िरत इल्तुजा या ख़ुदा है
मैं इश्क़े मुह़म्मद में रोया करूं काश
खुदा तुझसे ये बहरे रमज़ां दुआ है
करूं हर बरस हज मदीना भी देखूं
पए माहे रम्ज़ा ख़ुदाया दुआ है

 

जो है आशिक़े सादिक़े के माहे रम्ज़ां
वो जन्नत की जानिब बढ़ा जा रहा है

 

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

 

इलाही बना आशिक़-ए-माहे रमज़ां
तुझे मदनी सरकार का वास्ता है
ग़म माहे रमज़ां से कर दे मुशर्रफ़
तू अत्तार को या ख़ुदा इल्तिजा है

 

समां आज हर सम्त खुशियों भरा है
नजर चांद रमज़ान का आ गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.