Nokar Hun Logo Mola Ali Ka Lyrics

 

Ali Maula, Ali Maula
Ali Maula, Ali Maula

Naukar hun logo maula Ali ka
Hai aan meri, pahchan meri .. nara Ali ka

 

Aagosh e madar teri ata hai
Beta tumhara jo padh raha hai
Mushkil ho koi mushkil kusha hai
Dono jahan me chalta hai logo sikka Ali ka

Naukar hun logo maula Ali ka ×3

 

Zindagi hai Ali Ali ki sada
Har kushi hai Ali Ali ki sada
Sun andheron ke ae musafir sun
Roushani hai Ali Ali ki sada

Marhab ke tukde kar ke barabar
Tu ne bataya tu hai dilabar
Maa ne rakha hai tera naam haider
Andho ne dekha, bhooli na dunia ladna Ali ka

Naukar hun logo maula Ali ka ×3

 

Jo jana chahe meri bala se
Haider padhunga huqm e khuda se
Baaiz sambhalna meri ada se
Alfaaz mere, guftaar meri sadqa Ali ka

Naukar hun logo maula Ali ka ×3

 

Ali jo zindagi me hai ima.n ki baqa bankar
Wujood tum me wo rahta har la fatah bankar
Khameer aadam o hawwa ka goondne wala
Bashar ke roop me hai dast e kibriya bankar

Qoul e nabi hai ye jaan jaye
Nara Ali ka momin lagaye
Ye shaikh chahe han tilmilaaye
Har su lagega lagta rahega nara .. Ali ka

Naukar hun logo maula Ali ka ×3

 

Ajdar cheera kisne batao?
Khaibar ukhada kisne dikhao?
Bachhon ko apne haq sach sunao
Baad e nabi hai rutba nirala .. rutba Ali ka

Naukar hun logo maula Ali ka ×3

 

Meri namazein mera musalla
Muh par padhenge bin tere maula
Mai hun namazi sadqa hai tera

Kitna hasin tha, kitna hasin hai sajda .. Ali ka

Alfaaz saarey teri ata hai
Yabar ne maula jitna likha hai
Kar maaf murshid jo bhi khata hai
Mera aqeeda, mera wasila kunba Ali ka

Naukar hun logo maula Ali ka ×3

 

Voice: Muntazir Hassan Nagri

Farhan Ali Waris Mola Rang De Lyrics
Naseebon Ko Jagaya Hai Ali Ne Lyrics
Haider Haider Bol Malanga Lyrics
अली मौला, अली मौला
अली मौला ,अली मौला

नौकर हूं लोगो मौला अली का
है आन मेरी, पहचान मेरी .. नरा अली का

 

आगोस ए मादर तेरी अत़ा है
बेटा तुम्हारा जो पढ़ रहा है
मुश्किल हो कोई मुश्किल कुशा है
दोनो जहाँ में चलता है लोगों सिक्का अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का ×3

 

ज़िन्दगी है अली अली की सदा
हर खुशी है अली अली की सदा
सुन अंधेरों के ऐ मुसाफ़िर सुन
रौशनी है अली अली की सदा

मरहब के टुकड़े कर के बराबर
तू ने बताया तू है दिलाबर
मां ने रखा है तेरा नाम हैदर
अंधों ने देखा, भूली ना दुनिया लड़ना अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का ×3

 

जो जाना चाहे मेरी बला से
हैदर पढ़ूंगा हुक्म ए ख़ुदा से
बाइज़ सम्भलना मेरी अदा से
अल्फ़ाज़ मेरे, गुफ़्तार मेरी .. सदक़ा अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का ×3

 

अली जो ज़िन्दगी में है ईमां की बक़ा बनकर
वुजूद तुम में वो रहता हर ला फ़तह बनकर
ख़मीर आदम ओ हव्वा का गूंदने वाला
बशर के रुप में है दस्ते किब्रिया बनकर

क़ौल ए नबी है ये जान जाये
नारा अली का मोमिन लगाए
ये शैख चाहे हां तिलमिलाए
हर सू लगेगा लगता रहेगा नारा .. अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का ×3

 

अजदर को चीरा किसने बताओ?
खैबर उखाड़ा किसने दिखाओ?
बच्चों को अपने हक़ सच सुनाओ
बाद ए नबी है रुतबा निराला रुतबा .. अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का ×3

 

मेरी नमाज़ें मेरा मुसल्ला
मुंह पर पड़ेंगे बिन तेरे मौला
मैं हूं नमाज़ी सदक़ा है तेरा
कितना हसीं था, कितना हंसी है सजदा अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का 3

 

अल्फ़ाज़ सारे तेरी अत़ा है
याबर ने मौला जितना लिखा है
कर माफ़ मुर्शिद जो भी ख़ता है
मेरा अक़ीदा मेरा बसीला कुनबा अली का

नौकर हूं लोगो मौला अली का ×3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.