Phoolon ki sej meri har ek rah guzar me hai naat lyrics

 

 

Phoolon ki sej meri har ek rah guzar me hai in hindi

फूलों की सेज ! मेरी हर एक रह गुज़र में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है

Phoolon ki sej meri har ek rah guzar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

ना हो आराम जिस बीमार को सारे ज़माने से
उठा ले जाए थोड़ी खाक़ उनके आस्ताने से

Na ho aaram jis beemar ko saarey zamane se
Utha le jaye thodi khaq unke aastane se

 

रहमत फ़रिश्ते लाते रहेंगे हर एक पल
बरकत गुल खिलाते रहेंगे हर एक पल

Rahmat farishte laate rahenge har ek pal
Barkat gul khilate rahenge har ek pal

 

खाक़ ए दरे रसूल अगर तेरे घर में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है

Khaq e dar e rasool agar tere ghar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

नूर के चश्मे लहराये दरिया बहे
उंगलियों की करामत पे लाखों सलाम

Noor ke chashme lahraye dariya bahe
Ungliyon ki karamat pe lakhon salam

 

उट्ठी जो उनकी उंगली तो क्या क्या ना कर दिया
सूरज को फेरा चांद को दो टुकड़े कर दिया

Utthi jo unki ungli to kya kya na kar diya
Suraj ko fera chand ko do tukde kar diya

 

उसका निशान आज भी देखो क़मर में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है

Uska nishan aaj bhi dekho qamar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

भीनी सुहानी सुब्हो की ठन्डक जिगर में है
कलियां खिलीं दिलों की हवा ये किधर की है

Bhini suhani subho ki thandak jigar me hai
Kaliyan khili dilon ki hawa ye kidhar ki hai

 

रेशम सी हैं ये हवाएं फ़ज़ा मुश्कवार है
तैबा की जुस्तजू में अजब ही खुमार है

Resham si hein hawaein faza mushkwar hai
Taiba ki justjoo me ajab hi khumaar hai

 

लगता है जैसे खुल्द मेरी हर डगर में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है

Lagta hai jaise khuld meri har dagar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

फूलों की सेज मेरी! हर एक रह गुज़र में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है
Phoolon ki sej meri! har ek rah guzar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

अल्लाह सबसे आला है फिर मुस्तफ़ा की ज़ात
दोनों जहां में ऊंची है मेरे नबी की बात
Allah sabse aala hai phir mustafa ki zaat
Dono jahan me unchi hai mere nabi ki baat

 

फैला हुआ जो नूर ये शाम ओ सहर में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है
Faila hua jo noor ye shaam o sahar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

मेरे तसव्वुरात का आलम ना पूछिये
क्यूँ हो गई है आंख मेरी नम ना पूछिये
Mere taswwuraat ka aalam na poochhiye
Kyon ho gayi hai aankh meri nam na poochiye

 

सज्जाद मस्त नात ए शहे बहरोवर में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है
Sajjad mast naat e shahe bahrowar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

 

फूलों की सेज मेरी! हर एक रह गुज़र में है
मैं हूं सफ़र में गुंम्बदे खज़रा नज़र में है

Phoolon ki sej meri! har ek rah guzar me hai
Main hun safar me gumbad e khazra nazar me hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.