Rab Ka Mehman Ramzan Hai Lyrics

 

 

रब का मेहमान रमज़ान है

 

Maahe Ramzan, Maahe Ramzan

Maahe Ramzan, Maahe Ramzan

 

Assalam Ae Maahe Ramzan

Assalam Ae Maahe Ramzan

 

Mere Aaqa Ka Farman Hai

Rab Ka Mehman Ramzan Hai

(Mere Aaqa Ka Farman Hai)

(Rab Ka Mehman Ramzan Hai)

 

Sahar-Iftaar Ki Chaashni

Aur Tarabeeh Ki Dil Kasha

Tujhko Bin Maange Jo Mil Gayi

Tujh Pe Rab Ka Ye Ahsaan Hai

 

Mere Aaqa Ka Farman Hai

Rab Ka Mehman Ramzan Hai

(Mere Aaqa Ka Farman Hai)

(Rab Ka Mehman Ramzan Hai)

 

Jisme Qur’aan Nazil Hua

Qurb-E-Rahman Haasil Hua

Zikr Se Dil Na Ghafil Hua

Ye Wahi Maahe Ramzan Hai

 

Mere Aaqa Ka Farman Hai

Rab Ka Mehman Ramzan Hai

(Mere Aaqa Ka Farman Hai)

(Rab Ka Mehman Ramzan Hai)

 

Kar Tilawat Tu Qur’aan Ki

Qadr Kar Rab Ke Farman Ki

Taaki Rahmat Ho Rahman Ki

Bas Ye Hi Itri Pahchan Hai

 

Mere Aaqa Ka Farman Hai

Rab Ka Mahman Ramzan Hai

(Mere Aaqa Ka Farman Hai)

(Rab Ka Mahman Ramzan Hai)

 

Raah-E-Qur’aan-O-Sunnat Pe Chal

Taaki Haasil Hon Jannat Kef Al

Nafs-O-Shaita.N Hain Dushman Sambhal

Tera Ghaafil Kidhar Dhyaan Hai

 

Mere Aaqa Ka Farman Hai

Rab Ka Mahman Ramzan Hai

(Mere Aaqa Ka Farman Hai)

(Rab Ka Mahman Ramzan Hai)

 

Recited By: Mahmood Raza Qadri & Hassan Raza Qadri

rab ka mehman ramzan hai lyrics
Rab Ka Mahman Ramzan Hai Lyrics Hindi

Rab Ka Mahman Ramzan Hai Lyrics Hindi
माहे रमज़ान, माहे रमज़ान

माहे रमज़ान, माहे रमज़ान

 

अस्सलाम ऐ माहे रमज़ान

अस्सलाम ऐ माहे रमज़ान

 

मेरे आक़ा का फ़रमान है

रब का मेहमान रमज़ान है

(मेरे आक़ा का फ़रमान है)

(रब का मेहमान रमज़ान है)

 

सहर-इफ़्तार की चाशनी

और तराबीह़ की दिलकशी

तुझको बिन मांगे जो मिल गई

तुझ पे रब का ये एहसान है

 

मेरे आक़ा का फ़रमान है

रब का मेहमान रमज़ान है

(मेरे आक़ा का फ़रमान है)

(रब का मेहमान रमज़ान है)

 

जिसमें क़ुरआन नाज़िल हुआ

क़ुर्बे रह़मान हासिल हुआ

ज़िक्र से दिल ना ग़ाफ़िल हुआ

ये वही माहे रमज़ान है

 

मेरे आक़ा का फ़रमान है

रब का मेहमान रमज़ान है

(मेरे आक़ा का फ़रमान है)

(रब का मेहमान रमज़ान है)

 

कर तिलावत तू क़ुरआन की

क़द्र कर रब के फ़रमान की

ताकि रह़मत हो रह़मान की

बस ये ही इत्री पहचान है

 

मेरे आक़ा का फ़रमान है

रब का मेहमान रमज़ान है

(मेरे आक़ा का फ़रमान है)

(रब का मेहमान रमज़ान है)

 

राह-ए-क़ुरआन-ओ-सुन्नत पे चल

ताकि हासिल हों जन्नत के फल

नफ़्स-ओ-शैतां है दुश्मन संम्भल

तेरा ग़ाफ़िल किधर ध्यान है

 

मेरे आक़ा का फ़रमान है

रब का मेहमान रमज़ान है

(मेरे आक़ा का फ़रमान है)

(रब का मेहमान रमज़ान

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.