Sahaba Jaisy Ban Jao Lyrics

 

Sahaba Jaisy Ban Jao Lyrics

Manqabat Khwan: Hafiz Muhammad Abid
Written by: Saleemullah Salik

सहाबा जैसे बन जाओ

 

अगर इज़्ज़त से जीना है सहाबा जैसे बन जाओ

शहादत की तमन्ना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Agar Izzat Se Jeena Hai Sahaba Jaise Ban Jao
Shahadat Ki Tamanna Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

सियासत हो ईमामत हो तरीक़त हो के दावत हो

खुलूसे क़ल्ब पाना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Siyasat Ho Imamat Ho Tariqat Ho Ke Dawat Ho
Khuloos e Qalb Pana Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

उमर के नाम लेबाओं पे है अब बुझदिली ग़ालिब

सरे मैदान लड़ना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Umar Ke Naam Lebaaon Pe Hai Ab Bujhdili Ghalib
Sarey Maidan Ladna Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

ख़ुदा का डर बसा लो दिल में अपने मौत है बर ह़क़

शबे फ़ुरक़त में रोना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Khuda Ka Dar Basa Lo Dil Me Apne Mout Hai Bar Haq
Shabe Furqat Me Rona Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

नबी से इ़श्क़ के दावे तो करते हो मगर सुन लो

रहे सुन्नत पे चलना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Nabi Se Ishq Ke Daawe To Karte Ho Magar Sun Lo
Rahe Sunnat Pe Chalna Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

बताओ क्यूँ जहां भर में ये क़ब्रें हैं सहाबा की

ख़ुदा के दीं पे मरना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Batao Kyon Jahan Bhar Me Ye Qabrein Hain Sahaba Ki
Khuda Ke Dee.n Pe Marna Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

गिरा दो ग़ैर मैहरम के बुतों को खाना ए दिल से

ख़ुदा को गर बसाना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Gira Do Ghair Mahram Ke Buton Ko Khana e Dil Se
Khuda Ko Gar Basana Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

परेशां हाल उम्मत से रहो तुम आशाना सालिक

ग़मे उम्मत में घुलना है सहाबा जैसे बन जाओ

 

Paresha.n Haal Ummat Se Raho Tum Aashna Salik
Gham e Ummat Me Ghulna Hai Sahaba Jaise Ban Jao

 

Sahaba Jaisy Ban Jao Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.