Shahe Ambiya Ki Zaroorat Padegi Lyrics

 

Shahe Ambiya Ki Zaroorat Padegi Lyrics

शहे अम्बिया की ज़रूरत पड़ेगी

हिन्दी के लिए नीचे स्क्राल करें

Shahe Ambiya Ki Zaroorat Padegi

Habib E Khuda Ki Zaroorat Padegi

Qayamat Me Apne Hon Ya Ghair, Sabko

Mere Mustafa Ki Zaroorat Padegi

 

Sadaqat, Adalat, Sakhbat Talab Hai

To Siddique, Farooq, Usman Milenge

Shuj’at Ki Sultaniyan Chahte Ho

To Shere Khuda Ki Zaroorat Padegi

 

Agar Tum Wasile Ke Qaa’il Nahin Ho

Agar Unke Daman Ke Saa’il Nahin Ho

Sar E Garm E Hashr ! Tum Kya Karoge

Jo Thandi Hawa Ki Zaroorat Padegi

 

Unhi Ki Badoulat Waqaar E Haram Hai

Unhi Ki Badoulat Hain Zinda Namazein

Baghair Unke Sajde Na Maqbool Honge

Shahe Karbala Ki Zaroorat Padegi

 

Hai Daman Me Jiske Gubaar E Madina

Rahe Jisko Har Dam Shumar E Madina

Na Chhu Payenge Dard Duniya Ke Usko

Na Usko Dawa Ki Zaroorat Padegi

 

Shayar & Naat Khwan: Shakeel Arfi

Shahe Ambiya Ki Zaroorat Padegi Lyrics Hindi
शहे अम्बिया की ज़रूरत पड़ेगी

हबीबे ख़ुदा की ज़रूरत पड़ेगी

क़यामत में अपने हों या ग़ैर सबको

मेरे मुस्तफ़ा की ज़रूरत पड़ेगी

 

सदाक़त, अदालत, सख़ावत तलब है

तो सिद्दीक़, फ़ारुक़, उस्मां मिलेंगे

शुजाअ़त की सुल्तानिया चाहते हो

तो शेरे ख़ुदा की ज़रूरत पड़ेगी

 

अगर तुम वसीले के क़ाइल नहीं हो

अगर उनके दामन के साइल नहीं हो

सर ए गर्मी ए हश्र तुम क्या करोगे

जो ठंडी हवा की ज़रूरत पड़ेगी

 

उन्हीं की बदौलत वक़ार ए हरम है

उन्हीं की बदौलत हैं ज़िन्दा नमाज़ें

बगैर उनके सजदे ना मक़बूल होंगे

शहे कर्बला की ज़रूरत पड़ेगी

 

है दामन में जिसके गुबारे मदीना

रहे जिसको हरदम शुमारे मदीना

ना छू पाएंगे दर्द दुनिया के उसको

ना उसको दवा की ज़रूरत पड़ेगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.