Sher-e-Khuda Ke Sher Ka Tewar Nahi Jhuka Lyrics

Sher-e-Khuda Ke Sher Ka Tewar Nahi Jhuka Lyrics

 

 

शेर-ए-ख़ुदा के शेर का तेवर नहीं झुका / Sher-e-Khuda Ke Sher Ka Tewar Nahin Jhuka

शेर-ए-ख़ुदा के शेर का तेवर नहीं झुका
या’नी कहीं से नाम-ए-बहत्तर नहीं झुका

ताक़त लगा दी पूरी की पूरी यज़ीद ने
लेकिन मेरे हुसैन का इक सर नहीं झुका

ऐ शिम्र ! तू हुसैन को कैसे झुकाएगा
तुझ से तो एक छोटा सा असग़र नहीं झुका

आक़ा ने फिर कहा कि ‘अली को बुलाइए
आख़िर किसी से जब दर-ए-ख़ैबर नहीं झुका

दामन मिला है जब से मुझे अहल-ए-बैत का
उस रोज़ से कभी कहीं अज़हर नहीं झुका

ना’त-ख़्वाँ:
ग़ुलाम ग़ौस ग़ज़ाली

 

sher-e-KHuda ke sher ka tewar nahi.n jhuka
yaa’ni kahi.n se naam-e-bahattar nahi.n jhuka

taaqat laga di poori ki poori yazeed ne
lekin mere husain ka ik sar nahi.n jhuka

ai shimr ! tu husain ko kaise jhukaaega
tujh se to ek chhoTa saa asGar nahi.n jhuka

aaqa ne phir kaha ki ‘ali ko bulaaiye
aaKHir kisi se jab dar-e-KHaibar nahi.n jhuka

daaman mila hai jab se mujhe ahl-e-bait ka
us roz se kabhi kahi.n Azhar nahi.n jhuka

Naat-Khwaan:
Gulam Gaus Ghazali

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.