Teri Yaad Kaam Aayi Naat lyrics

 

Ye Udaas Raah-E-Manzil, Ye Shikashta Paayi

Mai To Thak Ke Baith Jata, Teri Yaad Kaam Aayi

ये उदास राह-ए-मन्ज़िल ये मेरी शिकस्ता पाई

मैं तो थक के बैठ जाता तेरी याद काम आई

 

Koi Mere Dil Se Poochhe Teri Shaan-E-Mustafayi

Wahi Mil Gaya Kinara Jahan Naao Dag-Magaai

कोई मेरे दिल से पूछे तेरी शान-ए-मुस्तफ़ाई

वहीं मिल गया किनारा जहां नाओ डगमगाई

 

Mai Shikashta Haal Raahi Tu Charagh-E-Raah-E-Manzil

Mera Kaam Bhool Jana Tera Kaam Rahnumai

मैं शिकस्ता हाल राही तू चिराग़-ए-राहे मन्ज़िल

मेरा काम भूल जाना तेरा काम रहनुमाई

 

Jo Khilaf Hai Zamana Mera Kya Bigaad Lega

Mere Saath Hain Muhammad Mere Saath Hai Khudai

जो खिलाफ़ है ज़माना मेरा क्या बिगाड़ लेगा

मेरे साथ हैं मुह़म्मद मेरे साथ है ख़ुदाई

 

Mere Naam Ki Balandi Teri Naat Se Qaa’im

Teri Naat Ka Hai Sadqa Izzat Jo Maine Paayi

मेरे नाम की बुलन्दी तेरी नात से है क़ाइम

तेरी नात का है सदक़ा इज़्ज़त जो मैंने पाई

 

Kabhi Mai Jo Lar-Kharaya Kabhi Mai Jo Dag-Magaya

Teri Masti-E-Nazar Hi Mujhe Thaamne Ko Aayi

कभी मैं जो लड़-खड़ाया कभी मैं जो डग-मगाया

तेरी मस्ती-ए-नज़र ही मुझे थामने को आई

 

Wo Khuda-E-Banda Parwar Mere Zurm Bakhsh Dega

Sarey Hashr Jab Mai Dunga Tere Naam Ki Duhayi

वो ख़ुदा-ए-बन्दा परवर मेरे ज़ुर्म बख्श देखा

सरे ह़श्र जब मैं दूंगा तेरे नाम की दुहाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.