Unke rouze pe baharon ki zebai hai lyrics

 

Unke rouze pe baharon ki zebai hai lyrics
Unke rouze pe baharon ki zebai hai lyrics
उनके रौज़े पे बहारों की ज़ेबाई है

Shayar: अ़ल्लामा अरशदुल क़ादरी | Naat e Paak

उनके रौज़े पे बहारों की ज़ेबाई है
जैसे फ़िरदौस पे फ़िरदौस उतर आई है
Unke rouze pe baharon ki zebai hai
Jaise firdous pe firdous utar aai hai

 

पाँव छू जाये तो पत्थर का जिगर मोम करे
हाथ लग जाये तो शर्मिन्दा मसीहाई है
Paon chhoo jaye to patthar ka jigar mom kare
Haath lag jaye to sharminda masihaai hai

 

जाने क्यों अ़र्श की क़न्दील बुझी जाती है
उनके जल्वों में नज़र जब नहा आई है
Jane kyon arsh ki qandeel bujhi jaati hai
Unke jalwon me nazar jab naha aai hai

 

मिल गई है सरे बालीं जो क़दम की आहट
रुह जाती हुई शर्मा के पलट आई है
Mil gai hai sarey baali jo qadam ki ahat
Rooh jaati hui sharma ke palat aai hai

 

सर पे सर कयों न झुकें उनके क़दम पर अरशद
एक ग़ुलामी है तो कौनैन की आक़ाई है
Sar pe sar kyon na jhuke unke qadam par arshad

ek ghulami hai to kounain ki aaqaai hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.