Wah Kya Baat Aala Hazrat Ki Lyrics

 

 

मेरे आक़ा-ओ-मौला सरकार आला हज़रत
मेरे आक़ा-ओ-मौला सरकार आला हज़रत

 

लाख जलते रहें दुश्मनाने रज़ा
कम ना होंगे कभी मदह्-ख़्वाने रज़ा
कह रहें हैं सभी आशिक़ाने रज़ा
मसलके आला हज़रत सलामत रहे

वाह क्या बात आला हज़रत की
वाह क्या बात आला हज़रत की

 

मैं हूँ सुन्नी मेरा दिल है दीवाना आला हज़रत का
मेरा मर्कज़ बना है आस्ताना आला हज़रत का

नबी के इ़श्क़ में कुर्बान कर दी ज़िन्दगी जिसने
ज़माना जानता है आशिक़ाना आला हज़रत का

वाह क्या बात आला हज़रत की
वाह क्या बात आला हज़रत की

 

रोज़े महशर अगर मुझसे पूछे ख़ुदा
बोल आले रसूल तू लाया है क्या?
अर्ज़ कर दूगां लाया हूं अह़मद रज़ा
या ख़ुदा ये अमानत सलामत रहे

वाह क्या बात आला हज़रत की
वाह क्या बात आला हज़रत की

 

कभी भी आप ने ग़ैरों के ह़क़ में कुछ नहीं लिक्खा
नबी के वास्ते था शायराना आला हज़रत का

गिरा देते हैं गुस्ताख़े नबी को इक ही हमले में
कभी खाली नहीं जाता निशाना आला हज़रत का

वाह क्या बात़ आला हज़रत की
वाह क्या बात़ आला हज़रत की

 

अहले ईमान तू क्यूं परेशान है
रहबरी को तेरी कन्ज़ुल ईमान है
हर क़दम पर तेरा यह निगहबान है
या ख़ुदा ये अमानत सलामत रहे

 

वो जीती जागती तस्वीर थे तक़वा-तहारत की
था किरदारे मुक़द्दस सूफ़ियाना आला हज़रत का

कोई है मुफ़्तिये आज़म, कोई ताजुश्शरीआ है
अलग है और घरानों से घराना आला हज़रत का

वाह क्या बात़ आला हज़रत की
वाह क्या बात आला हज़रत की

 

नारा फ़ैज़े रज़ा का लगाते रहो
मुन्किरों के दिलों को जलाते रहो
और कलामे रज़ा तुम सुनाते रहो
फ़ैज़े अह़मद रज़ा ता क़यामत रहे

 

नबी के नाम का सदक़ा लुटाते हैं वो रोज़ाना
मगर होता नहीं है कम ख़ज़ाना आला हज़रत का

रसूले पाक के गुस्ताख़ से थी दुश्मनी उनकी
था उश्शाक़े नबी से दोस्ताना आला हज़रत का

मैं नाज़ां हूं, ऐ आसिम दयारे आला हज़रत का
बि-हम्दिल्लाह, लिखा मैंने फ़साना आला हज़रत का

 

Hafiz Tahir Qadri And Hafiz Ahsan qadri
Muhammad Aasimul Qadri Rizvi

Related Post:
Ahmad Raza Ka Taza Gulishtan Hai Aaj Bhi Lyrics
Sunnaton Par Chalun Aur Chalane Lagun
Be-Kason Ka Sahara Bareilly Mein Hai
Jaari Hai Faizan Ala Hazrat Ka Lyrics
Hum Sunni To Aala Hazrat Waley Hain
Aala Hazrat Hamari Jaan Hain Lyrics
Mera Markaz Bareilly Hai Lyrics
Mere Tajo shariya Ki Kya Shan Hai
Wah Kya Baat Hai Ala Hazrat Ki Lyrics English
Mere Aaqa o Mola Sarkar Ala Hazrat
Mere Aaqa o Mola Sarkar Ala Hazrat

 

Laakh Jalte Rahen Dushmanane Raza
Kam Na Honge kabhi Madah-Khwane Raza
Kah Rahe Hain Sabhi Aashiqane Raza
Maslake Aala Hazrat Salamat Rahe

Wah Kya Baat Aala Hazrat Ki
Wah Kya Baat Aala Hazrat ki

 

Mai Hun Sunni Mera Dil Hai Diwana Ala Hazrat Ka
Mera Markaj Bana Hai Astana Ala Hazrat Ka

Nabi Ke Ishq Me Kurban Kar di Zindagi Apni
Zamana Janta Hai Ashiqana Ala Hazrat Ka

Wah Kya Baat Aala Hazrat Ki
Wah Kya Baat Aala Hazrat ki

 

Roze Mahshar Agar Mujhse Poochhe Khuda
Bol Aale Rasool Tu Laya Hai Kya ?
Arz Kar Doonga Laya Hun Ahmad Raza
Ya Khuda Ye Amanat Salamat Rahe

Wah Kya Baat Aala Hazrat Ki
Wah Kya Baat Aala Hazrat ki

 

Kabhi Bhi Aap Ne Ghairon Ke Haq Me Kuchh Nahi Likha
Nabi Ke Waste Tha Shayrana Ala Hazrat Ka

Gira Dete Hain Gustakh e Nabi Ko Ik Hee Hamle Me
Kabhi Khali Nahin Jata Nishana Ala Hasrat Ka

Wah Kya Baat Aala Hazrat Ki
Wah Kya Baat Aala Hazrat ki

 

Ahle Iman Tu Kyun Pareshan Hai
Rahbari Ko Teri Kanzul Iman Hai

Har Qadam Par Tera Yeh Nigehban Hai
Ya Khuda ye Amanat Salamat Rahe

 

Wo Jeeti-Jaagti Tasveer The Taqwa, Taha’rat Ki
Tha Qirdar e Muqaddas Sufiyana Ala Hazrat ka

Koi Hai Muftiye Azam Koi Tajushshariaa Hai
Alag Hai Aur Gharano Se Gharana Ala Hazrat Ka

Wah Kya Baat Aala Hazrat Ki
Wah Kya Baat Aala Hazrat ki

 

Nara Faiz e Raza Ka Lagate Raho
Munkiron Ke Dilon Ko Jalate Raho
Aur Kalam e Raza Tum Sunate Raho
Faiz e Ahmad Raza Ta Qayamat Rahe

 

Nabi Ke Naam Ka Sadqa Lutate Hain Wo Rozana
Magar Hota Nahin Hai Kam Khazana Ala Hazrat Ka

Rasool e Paak Ke Gustakh Se Thi Dushmani Unki
Tha Ushahaqe Nabi Se Dostana Ala Hazrat Ka

Mai Naazan Hun Ae Asim Dayare Ala Hazrat Ka
Bi-Hamdillah, Likha Maine Fasana Ala Hazrat Ka

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.