Ya Ghaus e Aazam Jeelani Qawwali English Lyrics

 

 

Rutba Hai Be Shaq La-Saani
Tum Ho Mahboob-e-Sub’Hani
Rab Ki Janib Se Hai Haasil
Saare Waliyon Ki Sultani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

Karam Kar Do Khudara Ghous-e-Aazam Shah-e-Jilani
Bane Bigda Muqaddar Door Ho Jaye Pareshani

 

Sada Karte Ho Bigde Haal Walon Par Meharbani
Suna Hai Mushkilon Me Jab Koi Fariyad Karta Hai
To Mushkil Door Ho Jaati Hai Wo Jis Dam Yaad Karta Hai
Gham-o-Aalam Se Aazad Karte Ho Ba-Aasani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

Karamat Ke Dhani Ho Har Zaba.n Pe Ye Qaseeda Hai
Karam Karte Ho Sab Par Har Kisi Ka Ye Aqeeda Hai
Maseeha Bekason Ke Aap Ho Ya Ghous e Samdani
Ghulami Ka Sharaf Jisko Mila Wo Ho Gaya Qaamil
Bhatak Sakta Nahin Jo Silsile Me Ho Gaya Daakhil
Hamesha Aap Karte Ho Muridon Ki Nigehwani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

Bhanwar Me Phas Nahin Sakti Aqeedat-mand Ki Kashti

Talatum khez Moujon Se Guzar Hai Ba’sad Masti
Hifazat Karti Rahti Hai Sada Moujon Ki Tughyani
Yaqeenan Rouza e Aqdas Pe Jo Bimaar Jata Hai
Shifa’yabi Hua Karti Hai Wo Sarshar Aata Hai
Mua’lij Hein Yaqinan Aap Jismani Aur Roohani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

Lagao Al madad Ya Ghous Ka Nara Aqidat Se
Pukaro Mushkilon Me Ghous e Aazam Ko Mohabbat Se
Bacha’tey Hein Musibat Se Hamesha Peer-e-La-Sani
Banaya Chor Ko Abdaal Pyare Ghous e Aazam Ne
Jaha.n Me Kar Diya Khush-haal Pyare Ghous e Aazam Ne
Nirali Shaan Wale Hein Ata Karte Hein Sultani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

Zaba.n Se Kum-bi-Izni Kah Ke Murdon Ko Jilaya Hai
Ba-Fazle Rab Jo Namumkin Tha Mumkin Kar Dikhaya Hai
Mili Hai Dastras Ye Aapko Mahboob e Shubhani
Samajh Se Bala-tar Hai Ghous e Aazam Aapki Hasti
Nikali Pal Me Baarah Saal Se Doobi Hui Kashti
Sadaei.n De Rahin Hein Aaj Bhi Dariya Ki Tughyani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

Salasil Hain Sabhi Zer-e-Asar Sab Faiz Paate Hein
Adab Se Auliya Allah Ke Sab Sar Jhukate Hein
Qadam Hai Sab Ki Gardan Par Sabhi Hein Zere Sultani
Ata Ho Aish Ko Ya Sayyadi Hasnain Ka Sadqa
Yehi Fariyad Hai Sar Par Rahe Bas Aapka Saaya
Muradein Dil Ki Bar Aayen Karam Ho Qutub-e-Rabbani

 

Ya Ghous-e-Aazam Jilani
Ya Ghous-e-Aazam Jilani

 

 

या ग़ौसे आज़म जीलानी कव्वाली हिन्दी में लिखी हुई
Ya Ghaus e Aazam Jilani Lyrics In Hindi

Singer Tahir Chishti
Writer: Hazrat S Qadri

 

रुत़बा है बे-शक ला-सानी
तुम हो महबूब-ए-सुब्हानी
रब की जानिब से है हासिल
सारे वलियों की सुल्तानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

 

करम कर दो खुदारा ग़ौस ए आज़म शाहे जीलानी
बने बिगड़ा मुक़द्दर दूर हो जाए परेशानी

सदा करते हो बिगड़े हाल वालों पर मेहरबानी
सुना है मुश्किलों में जब कोई फ़रियाद करता है
तो मुश्किल दूर हो जाती है जिस दम याद करता है
ग़मो आलाम से आजाद करते हो बा-आसानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

 

करामत के धनी हो हर ज़बां पे ये क़सीदा है
करम करते हो सब पर हर किसी का ये अक़ीदा है
मसीहा बेकसों के आप हो या ग़ौस ए समदानी
ग़ुलामी का शरफ़ जिसको मिला वो हो गया कामिल
भटक सकता नहीं जो सिलसिले में हो गया दाख़िल
हमेशा आप करते हो मुरीदों की निगेहबानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

 

भंबर में फ़स नहीं सकती अक़ीदत मन्द की कश्ती
तलातुम ख़ेज़ मौजों से गुज़रती है ब-सद मस्ती
हिफ़ाज़त करती रहती है सदा मौजों की तुग़यानी
यक़ीनन रौज़ा ए अक़्दस पे जो बीमार जाता है
शिफ़ायाबी हुआ करती है वो सरशार आता है
मुआलिज हैं यक़ीनन आप जिस्मानी और रुहानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

 

लगाओ अल-मदद या ग़ौस का नारा अक़ीदत से
पुकारो मुश्किलों में ग़ौस ए आज़म को मोह़ब्बत से
बचाते हैं मुसीबत से हमेशा पीरे ला-सानी
बनाया चोर को अब्दाल प्यारे ग़ौस ए आज़म ने
जहाँ में कर दिया खुशहाल प्यारे ग़ौस ए आज़म ने
निराली शान वाले हैं अ़त़ा करते हैं सुल्तानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

 

ज़बां से कुम्बि-इज़्नी कह के मुर्दों को जिलाया है
ब-फ़ज़्ले रब जो नामुमकिन था मुमकिन कर दिखाया है
मिली है दस्तरस ये आपको महबूब ए सुब्हानी
समझ से बालातर है ग़ौस ए आज़म आपकी हस्ती
निकाली पल में बारह साल से डूबी हुई कश्ती
सदाएँ दे रहीं हैं आज भी दरिया की तुग़यानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

 

सलासिल हैं सभी ज़ेरे असर सब फ़ैज़ पाते हैं
अदब से औलिया अल्लाह के सब सर झुकाते हैं
क़दम है सबकी गर्दन पर सभी हैं ज़ेरे सुल्तानी
अ़त़ा हो ऐश को या सय्यदी हसनैन का सदक़ा
यही फ़रियाद है सर पर रहे बस आपका साया
मुरादें दिल की बर आयें, करम हो क़ुतुब ए रब्बानी

 

या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी
या ग़ौस-ए-आज़म जीलानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.